शारदीय नवरात्रि

Navratri

Short information

  • Navratri Schedule 2020 and Dates:
  • Day 1 - October 17, 2020 (Saturday) - Ghatsthapana, Shailputri Puja, Brahmacharini Puja
  • Day 2 - October 18, 2020 (Sunday) - Sindoor Tritiya, Dwitiya, Chandra Darshan,
  • Day 3 - October 19, 2020 (Monday) - Tritiya, Chandraghanta Puja
  • Day 4 - October 20, 2020 (Tuesday) - Chaturthi, Kushmanda Puja
  • Day 5 - October 21, 2020 (Wednesday) - Panchami, Skandamata Puja
  • Day 6 - October 22, 2020 (Thursday) - Shashthi, Katyayani Puja
  • Day 7 - October 23, 2020 (Friday) - Saptami, Kalaratri Puja
  • Day 8 - October 24, 2020 (Saturday) - Ashtami, Sri Durga Ashtami, Sandhi Puja
  • Day 9 (Navratri ends) - October 25, 2020 (Sunday) – Maha Navami, Ram Navami

नवरात्रि हिन्दूओं का एक पवित्र त्यौहार है। नवरात्रि का त्यौहार हिन्दू पौराणिक कथाओं के अनुसार सभी देवताओं में  शक्तिशाली देवी दुर्गा को पूर्णतः समर्पित है। नवरात्रि का त्यौहार नौ दिन मनाया जाता है इस दिन देवी का आर्शीवाद पाने हेतु और अपने जीवन के दुख दूर करने करने के लिए मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा अर्चना करते है। ऐसा माना जाता है कि मां दुर्गा अपने भक्तों को प्यार, निर्भयता, साहस और आत्मविश्वास और कई अन्य दिव्य आर्शीवाद देती है।

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, नवरात्र अश्विन की शुक्ल पक्ष के पहले दिन शुरू होता है। इन्हीं नौ दिनों कि अवधि के दौरान माता दुर्गा ने महिषासुर राक्षस को मार डाला था, देवी दुर्गा का, देवी माँ के रूप में विशेष धार्मिक महत्व है।

नवरात्रि का त्योहार सच्ची भक्ति और पवित्रता के साथ पूरे भारत और विदेशों में भी मनाया जाता है। किसी भी जाति,  धर्म व समाज के विभिन्न वर्गों के लोग मंदिरों में माता के दर्शन मात्र करने और माँ के चरणों में पूजा की पेशकश करके इस त्योहार को मनाते हैं। कई जगहों पर देवी की विशेष पूजा भी कि जाती है और पंडालों के फूलों व लाइटों से सजाया जाता है और माँ दुर्गा की 9 छवियों की मूर्तियों की स्थापना पंडालों में कि जाती है।
माँ दुर्गा को ‘‘देवी’’ या ‘‘शक्ति’’ (ऊर्जा या शक्ति) के रूप में जाना जाता है। नवरात्रि के दौरान हम हमारे भीतर के भगवान की ऊर्जा का आह्वान करते है और इसकी ऊर्जा के साथ आगे बढ़ने के लिए निर्माण, संरक्षण आदि में मदद करता है।

सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके ।
शरण्ये त्र्यंबके गौरी नारायणि नमोस्तुते ।।

हिन्दी में अनुवाद: सर्व मंगलकारी वस्तुओं में विद्यमान मांगल्य रूप देवी, कल्याणदायिनी, सर्व पुरुषार्थों को साध्य कराने वाली, शरणागतों की रक्षा करने वाली देवी, त्रिनयना, गौरी, नारायणी ! आपको मेरा प्रणाम । श्री दुर्गादेवीके अतुलनीय गुणोंका परिचय इस श्लोकसे होता है । जीवनको परिपूर्ण बनाने हेतु आवश्यक सर्व विषयोंका साक्षात् प्रतीक हैं, आदिशक्ति श्री दुर्गादेवी । श्री दुर्गादेवीको जगत जननी कहा गया है । जगत्जननी अर्थात् सबकी माता ।

नौ दिन नौ भोग

  • नवरात्रि के पहले दिन मां के चरणों में गाय का शुद्ध घी अर्पित करें। इससे शरीर निरोगी रहता है।
  • नवरात्रि के दूसरे दिन मां को शक्कर का भोग लगाएं। इससे आयु वद्धि होती है।
  • नवरात्रि के तीसरे दिन दूध या दूध से बनी मिठाई खीर का भोग लगाएं। इससे दुःखों से मुक्ति मिलती है।
  • नवरात्रि के चैथे दिन मालपुए का भोग लगाएं। इससे बुद्धि का विकास होने के साथ-साथ निर्णय शक्ति बढ़ती है।
  • नवरात्रि के पांचवें दिन मां को केले का भोग चढ़ायं। इससे शरीर स्वस्थ रहता है।
  • नवरात्रि के छठे दिन मां को शहद का भोग लगाएं। जिससे लोग आप की तरफ आकर्षित होंगे।
  • नवरात्रि के सातवें दिन मां को गुड़ का भोग चढ़ाएं। इससे आकस्मिक आने वाले संकटों से रक्षा मिलती है।
  • नवरात्रि के आठवें दिन मां को नारियल का भोग लगाए। इससे संतान संबंधी परेशानियों से छुटकारा मिलता है।
  • नवरात्रि के नवें दिन मां को तिल का भोग लगाएं। इससे मृत्यु भय से राहत मिलेगी।

नवरात्रि महोत्सव के लिए आरती

माता के भजन कीर्तन

नवरात्रि स्पेशल खाना

#navratri2020 #chaitranavratri2020 #navratripooja2020 #navratrifood #navratrispecialfood

Read in English...

फोटो गैलरी

वीडियो गैलरी

आप को इन्हें भी पढ़ना चाहिए हैं :

Navratri बारे में

आपको इन्हे देखना चाहिए

आने वाला त्योहार / कार्यक्रम

आज की तिथि (Aaj Ki Tithi)

ताज़ा लेख

इन्हे भी आप देख सकते हैं

X