सुरजकुण्ड मेला 2023

सुरजकुण्ड मेला 2023

महत्वपूर्ण जानकारी

  • 36वां सूरजकुंड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेला 2023
  • स्थान: सूरज कुंड रोड, लेक वुड सिटी, सूरजकुंड, फरीदाबाद, हरियाणा 121010।
  • समय: सुबह 10.00 बजे से शाम 7.00 बजे तक,
  • सूरज कुंड मेला प्रारंभ तिथि: 01 फरवरी 2023।
  • सूरज कुंड मेला प्रारंभ समाप्ति: 16 फरवरी 2023।
  • पहली मेजबानी: 1987,
  • नजदीकी मेट्रो स्टेशन: सूरजकुंड शिल्प मेला से लगभग 4.3 किलोमीटर की दूरी पर बदरपुर मेट्रो स्टेशन।
  • कैसे पहुंचे: सूरजकुंड शिल्प मेला लोकल, रिक्शा लेकर या बदरपुर मेट्रो स्टेशन से टैक्सी किराए पर लेकर उपलब्ध है।
  • नजदीकी एयर पोर्ट: इंद्र गंडि एयरपोर्ट दिल्ली, जो सूरजकुंड से लगभग 25 किमी दूर है।
  • क्या आप जानते हैं: सूरजकुंड मेला का आयोजन सूरजकुंड मेला प्राधिकरण द्वारा केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय, कपड़ा, संस्कृति, विदेश, पर्यटन विभाग, हरियाणा सरकार और हरियाणा पर्यटन निगम के सहयोग से किया जाता है।
  • *तिथि भिन्न हो सकती है

सुरजकुण्ड का मेला हर साल फरीदाबाद, हरियाणा में बसंत के दौरान 01 फरवरी से 16 फरवरी तक आयोजित किया जाता है। यह मेला भारत का एक रंगीन पांरपरिक शिल्प त्योहार है जोकि सुरजकुण्ड परिसर में हरियाणा सरकार द्वारा आयोजित किया हाता है। इस मेले का पहली बार 1987 आयोजित किया गया था। इस मेले की विशेषता यह है कि इसमें भारत के सभी राज्यों के हस्तशिल्प व कारीगरों द्वारा बनायें समान को एक स्थान पर देखा व खरीदा जा सकता है। यह परंपरा, विरासत और संस्कृति के अद्भुत समन्वय के साथ-साथ माटी की महक सूरजकुंड हस्तशिल्प मेले की पहचान है।

सुरजकुण्ड का मेला हर साल एक नये विषय पर आयोजित किया जाता है व इसके आधार पर ही मेले की साज-सज्जा की जाती है। इस मेले में लोक संगीत का भी आयोजन किया जाता है। सभी राज्य के कलाकार अपने-अपने लोक संगीत का प्रदर्शन करते है। ऐसा कहा जा सकता है कि भारतीय कला, संस्कृति और संगीत को एक ही स्थान पर देखा जाये तो वह स्थान सुरजकुण्ड का मेला है। मेले का पूरा वातावरण संगीतमय व आनंदमय रहता है। इस मेले का हिस्सा बनने के लिए भारत से ही नहीं विदेशो से भी कलाकार आते है। मेले में प्रेवश के लिए टिकट निर्धारित किया जाता है। हर साल देश विदेश से लाखों दर्शक मेले का आनन्द लेने के लिए यहा आते है।

इस मेले के आयोजन का मुख्स उद्देश्य भारत की परंपरागत व रीति-रिवाजों को कायम रखाना है और इस परंपरा को मेले में आये दर्शकों का अवगत कराना है। भारत के सभी राज्यों के आये कलाकार व कारीगर अपनी अपनी कला व शिल्पकला का प्रदर्शन करते है।

सुरजकुण्ड मेला सैंकड़ों शिल्पियों के लिये रोजी-रोटी कमाने का एक अच्छा स्थान बन गया है जहां वे अपनी कला और शिल्प के राष्ट्रीय मंच के प्रदर्शन से अन्य रास्ते भी खुलते हैं। इसलिये वे अपनी कलाओं और शिल्पों के बेहतरीन नमूने लाते हैं और उन्हें मेले में प्रदर्शित करते हैं। मेले से नियार्तकों और खरीददारों को वार्षिक मिलन का भी अवसर मिलता है। यहां किसी विचैलिये के बिना शिल्पकार और निर्यातक आमने-सामने होते हैं। इससे शिल्पकारों को अपनी कला क्षेत्र का विस्तार करने और उसमें सुधार करने का सीधा मौका मिलता है।








2022 के आगामी त्यौहार और व्रत











दिव्य समाचार











Humble request: Write your valuable suggestions in the comment box below to make the website better and share this informative treasure with your friends. If there is any error / correction, you can also contact me through e-mail by clicking here. Thank you.

EN हिं