मंदिर शब्द का अर्थ

Meaning of the word Temple

मंदिर वह स्थान है जहां पर किसी व्यक्ति का मन को शाति मिलती है जिसके अन्दर जाते है तो शान्ति की अनूभुति होती है। जहा भगवान का वास होता है। वह स्थान मंदिर होता है परन्तु वास्तव में मंदिर शब्द का अर्थ क्या होता है ? इस शब्द की रचना कैसे हुई?

मंदिर शब्द में ‘मन’ और ‘दर’ की संधि विच्छेद करें, तो मन + दर होता है।

मन अर्थात मन होता है। दर अर्थात द्वार होता है।
मन का द्वार तात्पर्य यह है कि जहाँ हम अपना मन का द्वार खोलते हैं, वह स्थान मंदिर है।
और अगर हम मन का संधि विच्छेद करें तो म + न होता है।

म अर्थात मम = मैं
न अर्थात नहीं

जहाँ मैं नहीं !!

अर्थात जिस स्थान पर जाकर हमारा ‘मैं’ यानि अंहकार ‘न’ रहे वह स्थान मंदिर है।
सर्व विदित है कि ईश्वर हमारे मन में ही है, अतः जहाँ ‘मैं’ ‘न’ रह कर केवल ईश्वर हो वह स्थान मंदिर है।

You can Read in English...

आप को इन्हें भी पढ़ना चाहिए हैं :

Meaning of the word Temple बारे में

आपको इन्हे देखना चाहिए

आने वाला त्योहार / कार्यक्रम

आज की तिथि (Aaj Ki Tithi)

ताज़ा लेख

इन्हे भी आप देख सकते हैं

X