आरती गायत्री जी की

Aarti Gayatri Mata Ji Ki

संक्षिप्त जानकारी

  • समय: गायत्री माता आरती सुबह 5:15 बजे (सुबह) और शाम 7:15 बजे (शाम)

जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता।
आदि शक्ति तुम अलख निरंजन जग पालन कर्ता।
दुःख शोक भय क्लेश कलह दारिद्र्य दैन्य हरती ॥

ब्रह्मरूपिणी, प्रणत पालिनी, जगत धातृ अम्बे।
भव-भय हारी, जन हितकारी, सुखदा जगदम्बे॥
जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता॥

भयहारिणि, भवतारिणि, अनघे अज आनन्द राशी।
अविकारी, अघहरी, अविचलित, अमले, अविनाशी॥
जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता॥

कामधेनु सत-चित-आनन्दा जय गंगा गीता।
सविता की शाश्वती, शक्ति तुम सावित्री सीता॥
जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता॥

ऋग्, यजु, साम, अथर्व, प्रणयिनी, प्रणव महामहिमे।
कुण्डलिनी सहस्रार सुषुम्रा शोभा गुण गरिमे॥
जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता॥

स्वाहा, स्वधा, शची, ब्रह्माणी, राधा, रुद्राणी।
जय सतरूपा वाणी, विद्या, कमला, कल्याणी॥
जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता॥

जननी हम हैं दीन, हीन, दुःख दारिद के घेरे।
यदपि कुटिल, कपटी कपूत तऊ बालक हैं तेरे॥
जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता॥

स्नेह सनी करुणामयि माता चरण शरण दीजै।
बिलख रहे हम शिशु सुत तेरे दया दृष्टि कीजै॥
जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता॥

काम, क्रोध, मद, लोभ, दम्भ, दुर्भाव द्वेष हरिये।
शुद्ध, बुद्धि, निष्पाप हृदय, मन को पवित्र करिये॥
जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता॥

तुम समर्थ सब भाँति तारिणी, तुष्टि, पुष्टि त्राता।
सत मारग पर हमें चलाओ जो है सुखदाता॥
जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता॥

You can Read in English...

आरती

मंत्र

चालीसा

आप को इन्हें भी पढ़ना चाहिए हैं :

Other Gayatri Mata Devotional Materials of Aarti

Aarti Gayatri Mata Ji Ki बारे में

आपको इन्हे देखना चाहिए

आने वाला त्योहार / कार्यक्रम

आज की तिथि (Aaj Ki Tithi)

ताज़ा लेख

इन्हे भी आप देख सकते हैं

X