प्रेतराज सरकार की आरती - 2

प्रेतराज सरकार की आरती - 2

आरती प्रेतराज की कीजै दीन दुखिन के तुम रखवाले |

संकट जग के काटन हारे बालाजी के सेवक जोधा,
मन से नमन इन्हें कर लीजिए |

जिनके चरण कभी ना हारे, राम काज लगि जो अवतारे |
उनकी सेवा में चित्त देते, अर्जी सेवक की सुन लीजै ||

बाबा के तुम आज्ञाकारी, हाथी पर करे सवारी |
भूत जिन्न सब धर-थर कापे, अर्जी बाबा से कह दीजै ||

जिन्न आदि सब डर के मारे, नाक रगड़ तेरे पड़े दुआरे |
मेरे संकट तुरतहि काटो, यह विनय चित्त में धरि डीजे ||

वेश राजसी शोभा पाता, ढाल कृपाल धनुष अति भाता |
मैं आया कर शरण आपकी, नैया पार लगा मेरी दीजै ||








2022 के आगामी त्यौहार और व्रत












दिव्य समाचार











Humble request: Write your valuable suggestions in the comment box below to make the website better and share this informative treasure with your friends. If there is any error / correction, you can also contact me through e-mail by clicking here. Thank you.

EN हिं