ऐ मालिक तेरे बंदे हम

Aye Malik Tere Bande Hum

ऐ मालिक तेरे बंदे हम,
ऐसे हो हमारे करम।
ऐसे हो हमारे करम।

नेकी पर चले और बदी से टले,
ताकी हसते हुये निकले दम॥
ऐ मालिक तेरे बंदे हम।

ऐ मालिक तेरे बंदे हम, ऐसे हो हमारे करम
बड़ा कमजोर है आदमी,
अभी लाखों हैं इस में कमी।

पर तू जो खड़ा, है दयालू बड़ा,
तेरी किरपा से धरती थमी॥

दिया तूने हमें जब जनम,
तू ही झेलेगा हम सब के ग़म।

नेकी पर चले और बदी से टले,
ताकी हसते हुये निकले दम॥
ऐ मालिक तेरे बंदे हम

पर तू जो खड़ा, है दयालू बड़ा, तेरी किरपा से धरती थमी
ये अंधेरा घना छा रहा,
तेरा इन्सान घबरा रहा।

हो रहा बेख़बर, कुछ ना आता नज़र,
सुख का सूरज छुपा जा रहा॥

है तेरी रोशनी में जो दम,
तो अमावस को कर दे पूनम।

नेकी पर चले और बदी से टले,
ताकी हसते हुये निकले दम॥
ऐ मालिक तेरे बंदे हम

है तेरी रोशनी में जो दम, तो अमावस को कर दे पूनम
जब जुल्मों का हो सामना,
तब तू ही हमें थामना।

वो बुराई करे, हम भलाई करे,
नहीं बदले की हो कामना॥

नेकी पर चले और बदी से टले,
ताकी हसते हुये निकले दम॥
ऐ मालिक तेरे बंदे हम

बढ़ उठे प्यार का हर कदम,
और मिटे बैर का ये भरम।
नेकी पर चले और बदी से टले,
ताकी हसते हुये निकले दम॥
ऐ मालिक तेरे बंदे हम

जब जुल्मों का हो सामना, तब तू ही हमें थामना
ऐ मालिक तेरे बंदे हम,
ऐसे हो हमारे करम।
नेकी पर चले और बदी से टले,
ताकी हसते हुये निकले दम॥

You can Read in English...

आप को इन्हें भी पढ़ना चाहिए हैं :

Aye Malik Tere Bande Hum बारे में

आपको इन्हे देखना चाहिए

आने वाला त्योहार / कार्यक्रम

आज की तिथि (Aaj Ki Tithi)

ताज़ा लेख

इन्हे भी आप देख सकते हैं

X