जांमण मरण बिचारि

जांमण मरण बिचारि

जांमण मरण बिचारि करि कूड़े काम निबारि ।
जिनि पंथूं तुझ चालणा सोई पंथ संवारि ॥

अर्थ: जन्म और मरण का विचार करके , बुरे कर्मों को छोड़ दे. जिस मार्ग पर तुझे चलना है उसी मार्ग का स्मरण  कर – उसे ही याद रख – उसे ही संवार सुन्दर बना –





2021 के आगामी त्यौहार और व्रत











दिव्य समाचार











आप यह भी देख सकते हैं


EN हिं