गीता चालीसा

गीता चालीसा

महत्वपूर्ण जानकारी

  • - गीता प्रेस से 'गजल गीता' नाम से प्रकाशित

प्रथमहिं गुरुको शीश नवाऊँ | हरिचरणों में ध्यान लगाऊँ ||१||

गीत सुनाऊँ अद्भुत यार | धारण से हो बेड़ा पार ||२||

अर्जुन कहै सुनो भगवाना | अपने रूप बताये नाना ||३||

उनका मैं कछु भेद न जाना | किरपा कर फिर कहो सुजाना ||४||

जो कोई तुमको नित ध्यावे | भक्तिभाव से चित्त लगावे ||५||

रात दिवस तुमरे गुण गावे | तुमसे दूजा मन नहीं भावे ||६||

तुमरा नाम जपे दिन रात | और करे नहीं दूजी बात ||७||

दूजा निराकार को ध्यावे | अक्षर अलख अनादि बतावे ||८||

दोनों ध्यान लगाने वाला | उनमें कुण उत्तम नन्दलाला ||९||

अर्जुन से बोले भगवान् | सुन प्यारे कछु देकर ध्यान ||१०||

मेरा नाम जपै जपवावे | नेत्रों में प्रेमाश्रु छावे ||११||

मुझ बिनु और कछु नहीं चावे | रात दिवस मेरा गुण गावे ||१२||

सुनकर मेरा नामोच्चार | उठै रोम तन बारम्बार ||१३||

जिनका क्षण टूटै नहिं तार | उनकी श्रद्घा अटल अपार ||१४||

मुझ में जुड़कर ध्यान लगावे | ध्यान समय विह्वल हो जावे ||१५||

कंठ रुके बोला नहिं जावे | मन बुधि मेरे माँही समावे ||१६||

लज्जा भय रु बिसारे मान | अपना रहे ना तन का ज्ञान ||१७||

ऐसे जो मन ध्यान लगावे | सो योगिन में श्रेष्ठ कहावे ||१८||

जो कोई ध्यावे निर्गुण रूप | पूर्ण ब्रह्म अरु अचल अनूप ||१९||

निराकार सब वेद बतावे | मन बुद्धी जहँ थाह न पावे ||२०||

जिसका कबहुँ न होवे नाश | ब्यापक सबमें ज्यों आकाश ||२१||

अटल अनादि आनन्दघन | जाने बिरला जोगीजन ||२२||

ऐसा करे निरन्तर ध्यान | सबको समझे एक समान ||२३||

मन इन्द्रिय अपने वश राखे | विषयन के सुख कबहुँ न चाखे ||२४||

सब जीवों के हित में रत | ऐसा उनका सच्चा मत ||२५||

वह भी मेरे ही को पाते | निश्चय परमा गति को जाते ||२६||

फल दोनों का एक समान | किन्तु कठिन है निर्गुण ध्यान ||२७||

जबतक है मन में अभिमान | तबतक होना मुश्किल ज्ञान ||२८||

जिनका है निर्गुण में प्रेम | उनका दुर्घट साधन नेम ||२९||

मन टिकने को नहीं अधार | इससे साधन कठिन अपार ||३०||

सगुन ब्रह्म का सुगम उपाय | सो मैं तुझको दिया बताय ||३१||

यज्ञ दानादि कर्म अपारा | मेरे अर्पण कर कर सारा ||३२||

अटल लगावे मेरा ध्यान | समझे मुझको प्राण समान ||३३||

सब दुनिया से तोड़े प्रीत | मुझको समझे अपना मीत ||३४||

प्रेम मग्न हो अति अपार | समझे यह संसार असार ||३५||

जिसका मन नित मुझमें यार | उनसे करता मैं अति प्यार ||३६||

केवट बनकर नाव चलाऊँ | भव सागर के पार लगाऊँ ||३७||

यह है सबसे उत्तम ज्ञान | इससे तू कर मेरा ध्यान ||३८||

फिर होवेगा मोहिं सामान | यह कहना मम सच्चा जान ||३९||

जो चाले इसके अनुसार | वह भी हो भवसागर पार ||४०||




2021 के आगामी त्यौहार और व्रत











दिव्य समाचार










आप यह भी देख सकते हैं


EN हिं