जीण माता चालीसा

जीण माता चालीसा

|| दोहा ||

श्री गुरुपद सुमिरण करूँ,  गौरीनंदन ध्याय ।
वरणऊ माता जीण यश , चरणों शीश नवाय ।।

झांकी की अद्भुत छवि , शोभा कही न जाय ।
जो नित सुमरे माय को , कष्ट दूर हो जाय ।।

॥ चौपाई ॥

जय श्री जीणभक्त सुखकारी |नमो नमो भक्तन हितकारी ॥
दुर्गा की तुम हो अवतारा |सकल कष्ट तु मेट हमारा ॥

महाभयंकर तेज तुम्हारा |महिषासुर सा दुष्ट संहारा ॥
कंचन छत्र शिष पर सोहे|देखत रूप चराचर मोहे॥

तुम क्षत्रीधर तनधर लिन्हां |भक्तों के सब कारज किन्हां ॥
महाशक्ति तुम सुन्दर बाला |डरपत भूत प्रेत जम काला ॥

ब्रहमा विष्णु शंकर ध्यावे |ऋषि मुनि कोई पार न पावे ॥
तुम गौरी तुम शारदा काली|रमा लक्ष्मी तुम कपपाली॥

जगदम्बा भवरों की रानी |मैया मात तू महाभवानी ॥
सत पर तजे जीण तुम गेहा|त्यागा सब से क्षण में नेहा ॥

महातपस्या करनी ठानी|हरष खास था भाई ज्ञानी ॥
पिछे से आकर समझाई |घर वापिस चल माँ की जाई॥

बहुत कही पर एक ना मानी |तब हरसा यूँ उचरी बानी ॥
मैं भी बाई घर नहीं जाऊँ|तेरे साथ राम गुण गाऊँ॥

अलग अलग तप स्थल किन्हां |रैन दिवस तप मैं चितदीन्हा ॥
तुम तप कर दुर्गात्व पाया |हरषनाथ भैरू बन छाया ॥

वाहन सिंह खडक कर चमके |महातेज बिजली सा दमके ॥
चक्र गदा त्रिशूल विराजे |भागे दुष्ट जब दुर्गा जागे ॥

मुगल बादशाह चढकर आया |सेना बहुत सजाकर लाया॥
भैरव का मंदिर तुड़वाया ।फिर वो इस मंदिर पर धाया ॥

यह देख पुजारी घबराये ।करी स्तुति मात जगाये॥
तब माता तु भौरें छोडे ।सेना सहित भागे घोड़े ॥

बल का तेज देख घबराया ।जा चरणों में शीश नवाया ॥
क्षमा याचना किन्हीं भारी ।काट जीण मेरी सब बेमारी ॥

सोने का वो छत्र चढ़ाया ।तेल सवामन और बंधाया ॥
चमक रही कलयुग में माई ।तीन लोक में महिमा छाई॥

जो कोई तेरे मंदिर आवे ।सच्चे मन से भोग लगावे॥
रोली वस्त्र कपूर चढ़ावे ।मनवांछित पूर्ण फल पावे ॥

करे आरती भजन सुनावे ।सो नर शोभा जग में पावे ॥
शेखा वाटी धाम तुम्हारा ।सुन्दर शोभा नहीं सुम्हारा ॥

अश्विन मास नौराता माही ।कई यात्री आवे जाही ॥
देश – देश से आवे रेला ।चैत मास में लागे मेला ॥

आवे ऊँट कार बस लारी ।भीड़ लगे मेला में भारी ॥
साज – बाज से करते गाना ।कई मर्द और कई जनाना ॥

जात झडुला चढे अपारा ।सवामणी का पाऊ न पारा ॥
मदिरा में रहती मतवाली ।जय जगदम्बा जय महाकाली ॥

जो कोई तुम्हरे दर्शन पावे ।मौज करे जुग – जुग सुख पावे ॥
तुम्ही हमारी पितु और माता ।भक्ति शक्ति दो हे दाता ॥

जीण चालीसा जो कोई गावे ।सो सत पाठ करे करवावे। ॥
मैया नैया पार लगावे ।सेवक चरणों में चित् लावे ॥

|| दोहा ||

जय दुर्गा जय अंबिका जग जननी गिरी राय ।
दया करो हे चंडिका विनऊ शीश नवाय ॥






2021 के आगामी त्यौहार और व्रत











दिव्य समाचार











आप यह भी देख सकते हैं


EN हिं