महामृत्युंजय मंत्र

Mahamrityunjaya Mantra

महामृत्युंजय मंत्र भगवान शिव का मंत्र है। यह मंत्र भगवान शिव को सबसे बड़ा मंत्र माना जाता है। हिन्दु धर्म में इस मंत्र को प्राण रक्षक मंत्र माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस मंत्र का जाप करने से भगवान शिव प्रसन्न होते है और मंत्र का जाप करने वाले से मृत्यु भी डरती है। इस मंत्र का जाप सबसे पहले महाऋषि मार्कंडेय द्वारा सबसे पहले किया गया था।

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् |
उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात् ||

तीनों लोकों के पालनकर्ता, व्याधिहर्ता, पोषणहार परमात्मा, पक्का फल जिस तरह उसके डंठल से अलग हो जाता है उसी प्रकार रोग और मृत्यु से मुझे बचाना और अमृतमय जीवन प्रदान करना।

 

You can Read in English...

आरती

मंत्र

चालीसा

आप को इन्हें भी पढ़ना चाहिए हैं :

Other Shiv Devotional Materials of Mantra

Mahamrityunjaya Mantra बारे में

आपको इन्हे देखना चाहिए

आने वाला त्योहार / कार्यक्रम

आज की तिथि (Aaj Ki Tithi)

ताज़ा लेख

इन्हे भी आप देख सकते हैं

X