श्री भैरव आरती

Shri Bhairav Aarti

जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा
जय काली और गौर देवी कृत सेवा || जय भैरव ||

तुम्ही पाप उद्धारक दुःख सिन्धु तारक
भक्तो के सुख कारक भीषण वपु धारक || जय भैरव ||

वाहन श्वान विराजत कर त्रिशूल धारी
महिमा अमित तुम्हारी जय जय भयहारी || जय भैरव ||

तुम बिन देवा सेवा सफल नहीं होवे
चौमुख दीपक दर्शन दुःख खोवे || जय भैरव ||

तेल चटकी दधि मिश्रित भाषावाली तेरी
कृपा कीजिये भैरव, करिए नहीं देरी || जय भैरव ||

पाँव घुँघरू बाजत अरु डमरू दम्कावत
बटुकनाथ बन बालक जल मन हरषावत || जय भैरव ||

बत्कुनाथ जी की आरती जो कोई नर गावे
कहे धरनी धर नर मनवांछित फल पावे || जय भैरव ||

You can Read in English...

आरती

मंत्र

चालीसा

आप को इन्हें भी पढ़ना चाहिए हैं :

Other Bhairav Devotional Materials of Aarti

Shri Bhairav Aarti बारे में

आपको इन्हे देखना चाहिए

आने वाला त्योहार / कार्यक्रम

आज की तिथि (Aaj Ki Tithi)

ताज़ा लेख

इन्हे भी आप देख सकते हैं

X