आरती कुंजबिहारी की

Aarti Kunj Bihari Ki

आरती कुंजबिहारी की। श्री गिरधर कृष्णमुरारी की।।
गले में बैजयन्ती माला। बजावै मुरली मधुर बाला।।

श्रवन में कुण्डल झलकाला। नन्द के आनन्द नन्दलाला।।
गगन सम अंग कांति काली। राधिका चमक रही आली।।
लतन मे ठाढ़े बनमाली। भ्रमर सी अलक।
कस्तूरी तिलक, चन्द्रसी झलक। ललित छवि श्यामा प्यारी की।।
 श्री गिरधर कृष्णमुरारी की...

कनलकमय मोर मुकुट बिलसै। देवता दरसन को तरसैं।
गगन सों सुमन रासि बनसै। बजे मुरचंग।
मधुर मिरदंग, ग्वालिन संग। अतुल रति गोप कुमारी की।।
 श्री गिरधर कृष्णमुरारी की...

जहां ते प्रकट भई गंगा। कलुष कलि हारिणी श्रीगंगा।
स्मरन ते होत मोह भंगा। बसी सिव सीस, जटा के बीज।
हरै अघ कीच, चरण छवि श्रीबनवारी की।।
गिरधर कृष्णमुरारी की...

चमकती उज्ज्वल तट रेनू। बज रही वृन्दावन बेनू।
चहुं दिसि गोपि ग्वाल धेनू। हंसत मृदु मंद चांदनी चंद।
कटत भव फन्द, टेर सुनो दीन भिखारी की।।
श्री गिरधर कृष्णमुरारी की...

You can Read in English...

आरती

मंत्र

चालीसा

आप को इन्हें भी पढ़ना चाहिए हैं :

Other Krishna Devotional Materials of Aarti

Aarti Kunj Bihari Ki बारे में

आपको इन्हे देखना चाहिए

आने वाला त्योहार / कार्यक्रम

आज की तिथि (Aaj Ki Tithi)

ताज़ा लेख

इन्हे भी आप देख सकते हैं

X