भजन कीर्तन की सूची

भारत में भजन कीर्तन किसी भी भाषा में धार्मिक विषयों या आध्यात्मिक विचारों के साथ किसी भी भक्ति गीत को संदर्भित करता है। भजन करने वाले भक्त अपने ईश्वर से अपने विचारों को गीत में बोलकर या गाकर अपने विचार व्यक्त करते हैं। भजन शब्द का अर्थ है 'श्रद्धा', जो संस्कृत शब्द भज से निकला शब्द है। हिंदू धर्म में, अधिकांश भजन कीर्तन जागरण या पूजा में गाए जाते हैं। हिंदू देवी-देवताओं के लिए भजन गाए जाते हैं जैसे शिव, कृष्ण, दुर्गा माता, लक्ष्मी, रानी आदि।


156 Results
मॅन के द्वारे खोल

मॅन के द्वारे खोल

मॅन के द्वारे खोल के दे दो अपने मो का दान रे कल की माया कौन जाने कब निकले ये प्राण रे खाली हाथ ही आए हाइन और खाली हाथ ही जाना है एक हरी का नाम पुकारो गर मुक्ति
माता तेरे उच्छे मंदिर

माता तेरे उच्छे मंदिर

सारे जगनू सारे जगनू करार माता तेरे उच्छे मंदिर सारे जगनू करार माता तेरे उच्छे मंदिर
सावन की बरसे बदरिया

सावन की बरसे बदरिया

सावन की बरसे बदरिया, मा की भीगी चुनरिया, भीगी चुनरिया मा की भीगी चुनरिया, सावन की बरसे बदरिया, मा की भीगी चुनरिया,
पार करो मेरा बेड़ा भवानी

पार करो मेरा बेड़ा भवानी

पार करो मेरा बेड़ा भवानी पार करो मेरा बेड़ा छ्चाया घोर अंधेरा भवानी पार करो मेरा बेड़ा भवानी
ये मंतरा बड़ा अनमोल

ये मंतरा बड़ा अनमोल

जय माता दी जय माता दी जय माता दी बोल जय माता दी जय माता दी जय माता दी बोल मा के नाम के सच्चे मोटी ले जा तू बिनमोल
कभी दुर्गा बनके

कभी दुर्गा बनके

कभी दुर्गा बनके कभी काली बनके चली आना मैया जी चली आना चली आना मैया जी चली आना तुम दुर्गा रूप में आना तुम दुर्गा रूप में आना
नाचे शेर अलबेला

नाचे शेर अलबेला

आयो नवरात का मेला मड़ियाँ में नाचे शेर अलबेला, नाचे शेर अलबेला मड़ियाँ में नाचे शेर अलबेला,
मेरी लाज लाज राखो

मेरी लाज लाज राखो

मेरी लाज लाज राखो मेरी माई, तेरी चरण शरण में आई, माई आई मेरी लाज लाज राखो मेरी माई,
बताये दो बताये दो कहा गई भवानी

बताये दो बताये दो कहा गई भवानी

फिर आये गई मन पे आंबे माँ दानी. बताये दो बताये दो कहा गई भवानी,
चली आई रे भवानी माई पवन पवन पुरवईया रे

चली आई रे भवानी माई पवन पवन पुरवईया रे

चली आई रे भवानी माई पवन पवन पुरवईया रे, पूर्व दिशा हर लाइ माँ बदरियाँ जूनर झलक ता ता थइया रे, चली आई रे भवानी माई पवन पवन पुरवईया रे,
मैं तो झुमके नाचू गी सारी रात माँ झंडेवाली तेरे अंगना

मैं तो झुमके नाचू गी सारी रात माँ झंडेवाली तेरे अंगना

मैं तो झूम के नाचू गी सारी रात माँ झंडे वाली तेरे अंगना, भले होती है हो जाये प्रभात माँ झंडे वाली तेरे अंगना,
दर्शन बिन अंखियां

दर्शन बिन अंखियां

दरशन बिन अंखियां तरस गई, मईया आज ए अंखियां बरस गईं,
बल्ले बल्ले होइ जांदी है

बल्ले बल्ले होइ जांदी है

दाती जदो दे लगे आ दर तेरे बल्ले बल्ले होइ जांदी है, बैठे जदो दे माँ चरना च तेरे बल्ले बल्ले होइ जांदी है,
मैया जी तेरे मंदिरा ते नचा मैं बन के मोर मोर शेरावालिये

मैया जी तेरे मंदिरा ते नचा मैं बन के मोर मोर शेरावालिये

मैया जी तेरे मंदिरा ते नचा मैं बन के मोर मोर शेरावालिये, मति मस्त होवा विच अम्ब्रा दे जदो सावन घटाघनघोर मोर शेरावालिये,
मैया तेरा करू गुणगान

मैया तेरा करू गुणगान

मैया तेरा करू गुणगान कब दर्शन देने आवे, कब दर्श दिखाने आवे, मैया तेरा करू गुणगान
तेरा ही लाल हु मैं कुछ तो माँ ख्याल करो

तेरा ही लाल हु मैं कुछ तो माँ ख्याल करो

तेरा ही लाल हु मैं कुछ तो माँ ख्याल करो , बिठा के गोद में मुझको भी थोड़ा प्यार करो, तेरा ही लाल हु मैं कुछ तो माँ ख्याल करो ,
के आजा मेरी मैया रानी

के आजा मेरी मैया रानी

तेरे दर पे खड़ा है तेरा लाल के आजा मेरी मैया रानी, अपने बेटे का रखने ख़याल, के आजा मेरी मैया रानी
सुन देवा सुन मेरी देवा

सुन देवा सुन मेरी देवा

सुन देवा सुन मेरी देवा, तेरा नाम है मिश्री मेवा’ पहाड़ों बीच रेहन वाली है’
आया मजा आया तेरे जगराते का

आया मजा आया तेरे जगराते का

चांदनी रात और पुरवा चली है मीठी मीठी फूलो की खुशबु चली है, भीड़ भगतो की देखो लगी है, आया मजा आया तेरे जगराते का,
नया साल माँ नाल मनबांगे

नया साल माँ नाल मनबांगे

आज नवा साल माँ न मनावागे, नाले नच नच भेटा गवागे, आज नवा साल माँ न मनावागे,
जय देवी जय देवी

जय देवी जय देवी

दुर्जय दुर्गत भरि तज्विन संसारी अनत नाथे अम्बे करुणा वितारी वारी चर जनमा मरनचे चर हरि पदलो आगत संवत निवारी
जब कोई नही आता

जब कोई नही आता

जब कोई नही आता, जब कोई नही आता, मेरे श्याम आते है, मेरे श्याम आते है, मेरे दुख के दीनो मेी वो बड़े काम आते है, मेरे दुख के दीनो मेी वो बड़े काम आते है,
बसो मोरे नैनन में

बसो मोरे नैनन में

बसो मोरे नैनन में नंदलला, मोर मुकुट मकर आकृति कुंडल अरुण सीहत सोहे भाल मोर मुकुट मकर आकृति कुंडल
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है

सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है

सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है, सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है, चलो ससंग मेी चले ह्यूम हरी गन गाना है, चलो ससंग मेी चले ह्यूम हरी गन गाना है,

Coming Festival/Event

Today Date (Aaj Ki Tithi)

Latest Articles


You Can Also Visit

X