उमानंद मंदिर

उमानंद मंदिर

महत्वपूर्ण जानकारी

  • स्थान: मोर द्वीप, बरुआ सूक, उत्तरी गुवाहाटी, गुवाहाटी, असम 781030।
  • मंदिर के खुलने व बंद होने का समय : सुबह 5:30 बजे से शाम 6 बजे तक।
  • निकटतम रेलवे स्टेशन: उमानंद मंदिर से लगभग 1.6 किलोमीटर की दूरी पर गुवाहाटी रेलवे स्टेशन।
  • निकटतम हवाई अड्डा: उमानंद मंदिर से लगभग 22 किलोमीटर की दूरी पर गुवाहाटी हवाई अड्डा।

उमानंद देवलोई एक प्राचीन शिव मंदिर है जो ब्रह्मपुत्र नदी के मध्य में उमानंद द्वीप (मयूर द्वीप) में स्थित है जो कामरूप के उपायुक्त या गुवाहाटी में कचहरी घाट के कार्यालय के सामने स्थित है। इस मंदिर का नाम उमानंद हिंदी के दो शब्दों से आया है। पहला शब्द ‘उमा’ जो कि भगवान शिव की पत्नी माता पार्वती का एक नाम है और दूसरा शब्द ‘आनंद’ जिसका अर्थ है खुशी।

यह दुनिया में सबसे छोटे बसे हुए नदी द्वीप के रूप में जाना जाता है। ब्रह्मपुत्र के तट पर उपलब्ध स्थानीय नावों द्वारा आगंतुकों को द्वीप पर ले जाती हैं। जिस पर्वत पर मंदिर का निर्माण किया गया है, उसे भस्मकाल के नाम से जाना जाता है। मंदिर का परिवेश अदभुत और दिव्य है। मंदिर के चारों तरफ प्रकृति का अदभुत सौन्द्रर्य है, यह प्रकृति प्रेमियों के लिए एक आश्रय स्थल है।

ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव यहां पर भयानंद के रूप में निवास करते थे। कालिका पुराण के अनुसार, सृष्टि की शुरुआत में शिव ने इस स्थान पर भस्म को अपने शरीर पर लगाया था और माता पार्वती (उनकी पत्नी) को ज्ञान प्रदान किया था। यह कहा जाता है कि, जब भगवान शिव इस पहाड़ी पर ध्यान में थे, कामदेव ने उनके योग को बाधित कर दिया और इसलिए शिव के क्रोध की आग से जलकर राख हो गए और इसलिए पहाड़ी को भस्मकाल नाम मिला।

उमानंद मंदिर का निर्माण सन् 1681 से 1694 में किया गया था। इस मंदिर का निर्माण कार्य राजा गदाधर सिंह द्वारा किया गया था, जो अहोम वंश के एक राजा और सबसे मजबूत शासकों में से एक थे।

सन् 1897 में एक विनाशकारी भूकंप से मूल मंदिर काफी क्षतिग्रस्त हो गया था। बाद में, इस मंदिर का पुनः निर्माण स्थानीय व्यापारी द्वारा किया गया था। उमानंद मंदिर को कुशल असमिया श्रमिकों द्वारा खूबसूरती से तैयार किया गया था।

उमानंद मंदिर में भगवान शिव के अलावा भगवान विष्णु, सूर्य, गणेश अन्य हिंदू देवताओं की मूर्तियाँ मंदिर में स्थिापित है।

ऐसा माना जाता है कि, अमावस्या के दिन यहाँ पूजा करते हैं जब यह सोमवार को आता है तो सबसे अधिक आनंद आता है। शिव चतुर्दशी सबसे रंगीन त्योहार है जो यहां प्रतिवर्ष आयोजित किया जाता है। कई भक्त इस अवसर पर मंदिर में देवता की पूजा के लिए आते हैं।



Shiv Festival(s)










आप इन्हें भी पढ़ सकते हैं


2021 के आगामी त्यौहार और व्रत











दिव्य समाचार










आप यह भी देख सकते हैं


EN हिं