facebook

नाहरगढ़ किला

राजस्थान कई किलों और महलों का राज्य हैं, नाहरगढ़ किला उनमें से एक है। नाहरगढ़ किला राजस्थान का सबसे प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में से एक है और भारत के स्मारकों में से एक है। नाहरगढ़ किला ने, अन्य दो किलों के साथ-साथ, आमेर किला और जयगढ़ किला ने जयपुर शहर के लिए एक मजबूत रक्षा का गठन किया था। इस किले का नाम मूल रूप से ‘सुदर्शशगढ़ किला’ था, लेकिन बाद में इसे ‘नाहरगढ़’ नाम दिया गया, जिसका अर्थ है ‘बाघों का निवास’। यह किला महाराजा सवाई जय सिंह द्वितीय द्वारा सन् 1734 में बनाया गया था और सन् 1868 में सवाई राम सिंह द्वारा पुनर्निर्मित किया गया था। यह किला दुनिया की सबसे पुरानी पर्वत श्रृंखलाओं में से एक अरवल्ली हिल्स पर बना हुआ है, नाहरगढ़ किला अपनी विस्तारित दीवार के लिए जाना जाता है जो इसे जयगढ़ किले से जोड़ता है। 1857 के सिपाही विद्रोह के समय ब्रिटिश निवासियों की पत्नी और कई यूरोपीय लोगों ने इस किले में शरण ली थी।

यह माना जाता है कि राठौड़ के राजा नाहर सिंह भोमिया की आत्मा ने इस किले का निर्माण कार्य बाधित किया था। हर सुबह श्रमिकों द्वारा किया पिछले दिन का काम नष्ट हो जाया करता था। राजकुमार की आत्मा इस विचार से खुश नहीं थी। यह तब था जब महाराजा जय सिंह ने भूमि की खोज की थी। हालांकि, आत्मा को शांत कर दिया गया था, उसके लिए समर्पित किले के अंदर मंदिर बनाया गया था। राजा के नाम से पता चलता है कि किले का नाम राजा के नाम रखा गया था।

नाहरगढ़ किला जयपुर शहर के बाहर 6 किमी के दूरी पर स्थित है। नाहरगढ़  किला जयपुर में मोम संग्रहालय और शीशा महल का घर है और दोनों किलो के प्रवेश द्वार के पास स्थित हैं। नाहरगढ़ किला सप्ताह के सभी दिनों में सुबह 10:00 बजे से 05:30 बजे तक खुलता है। नाहरगढ़ इंडो-यूरोपीय वास्तुकला शैली का मिश्रण था। किले की संरचना राजा और उसकी बारह रानी के लिए दो मंजिला इमारत के साथ शानदार आवास खंड है। नौ समान खंडों में विभाजित, प्रत्येक में एक लॉबी, बेडरूम, शौचालय, रसोई और स्टोर शामिल हैं।

नाहरगढ़ किले के परिसर में मुख्य आकर्षणों में से एक है माधवेंद्र भवन। किले को मुख्य रूप से शाही महिलाओं के लिए आश्रय के रूप में इस्तेमाल किया गया था, महिलाओं के आवास या जेनाना बेहद प्रभावशाली हैं और इसे ही माधवेंद्र भवन कहा जाता है। यह किले के प्रमुख हिस्सा चैथा आंगन में बना हुआ है। महाराजा सवाई जय सिंह ने विशेष रूप से अपने शाही महिलाओं के लिए इस हिस्से का निर्माण किया था, क्योंकि इसमें शाही और अद्भुत राजपूताना कला का उत्कृष्ट झलक है। शाही पुरूषों के लिए परिसर में ‘मर्दाना महल’ का निर्माण भी हुआ था। नाहरगढ़ किले में जैविक पार्क एक अन्य आकर्षण केन्द्र है। दीवान-ए-आम, एक खुला स्थान है जहां राजा आम जनता की शिकायतों को सुनने व उनसे मुलाकात करता था। नाहरगढ़ किला निश्चित रूप से ऐसी सुंदरता का एक चमकता उदाहरण है।

Read in English...

मानचित्र में नाहरगढ़ किला

आपको इन्हे देखना चाहिए Rajasthan - Monuments

    We use cookies in this webiste to support its technical features, analyze its performance and enhance your user experience. To find out more please read our privacy policy.