स्कंदमाता की आरती

Skandamata Ki Aarti

जय तेरी हो स्कंद माता ।
पांचवा नाम तुम्हारा आता॥

सब के मन की जानन हारी ।
जग जननी सब की महतारी॥

तेरी ज्योत जलाता रहूं मैं ।
हरदम तुम्हे ध्याता रहूं मैं॥

कई नामो से तुझे पुकारा ।
मुझे एक है तेरा सहारा॥

कहीं पहाड़ों पर है डेरा ।
कई शहरों में तेरा बसेरा॥

हर मंदिर में तेरे नजारे गुण गाये ।
तेरे भगत प्यारे भगति॥

अपनी मुझे दिला दो शक्ति ।
मेरी बिगड़ी बना दो॥

इन्दर आदी देवता मिल सारे ।
करे पुकार तुम्हारे द्वारे॥

दुष्ट दत्य जब चढ़ कर आये ।
तुम ही खंडा हाथ उठाये॥

दासो को सदा बचाने आई ।
‘चमन’ की आस पुजाने आई॥

You can Read in English...

आप को इन्हें भी पढ़ना चाहिए हैं :

आपको इन्हे देखना चाहिए

आने वाला त्योहार / कार्यक्रम

आज की तिथि (Aaj Ki Tithi)

ताज़ा लेख

इन्हे भी आप देख सकते हैं

X