कर्मंघट हनुमान मंदिर हैदराबाद

कर्मंघट हनुमान मंदिर हैदराबाद

महत्वपूर्ण जानकारी

  • स्थान: 8-2-61, पद्म नगर कॉलोनी, चंपापेट, तेलंगाना 500079।
  • ओपन और क्लोज टाइमिंग: मंगलवार और शनिवार को छोड़कर सभी दिनों में सुबह 06:00 से दोपहर 12 बजे तक और शाम 04:30 से 08:30 बजे तक। मंगलवार और शनिवार को यह सुबह 05.30 बजे से दोपहर 01:00 बजे और शाम 04:30 से 09:00 बजे तक खुला रहता है।
  • निकटतम रेलवे स्टेशन: कर्मघाट हनुमान मंदिर से लगभग 5 किलोमीटर की दूरी पर याकूतपुरा रेलवे स्टेशन।
  • निकटतम हवाई अड्डा: कर्मघाट हनुमान मंदिर से लगभग 20.3 किलोमीटर की दूरी पर राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा।
  • क्या आप जानते हैं: औरंगजेब इस मंदिर को नहीं तोड़ सकता था।

कर्मंघट हनुमान मंदिर भारत के राज्य तेलंगाना के हैदराबाद में स्थित है। यह एक हिन्दू मंदिर है। यह भगवान हनुमान के प्राचीन व प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। इस मंदिर का निर्माण 12वीं शताब्दी में किया गया था। इस मंदिर का निर्माण काकतीय वशं के राजा प्रताप रुद्र द्वितीय ने करवाया था। ऐसा माना जाता है भगवान हनुमान राजा के सपने में दिखाई दिये थे और मंदिर बनाने के लिए कहा था। इस मंदिर के निर्माण हेतु ऐतिहासिक कहानी भी जुड़ी हुई है।

मंदिर के प्रमुख देवता भगवान हनुमान हैं और मंदिर परिसर में अन्य देवताओं का भी निवास है। भगवान राम, भगवान शिव, देवी सरस्वती, देवी दुर्गा, देवी संतोषीमाता, भगवान वेणुगोपाल स्वामी और भगवान जगन्नाथ। यह मंदिर कर्मनगर में संतोषनगर के पास और नागार्जुन सागर रिंग रोड के करीब स्थित है।
मंदिर हैदराबाद में भक्तों के बीच बहुत लोकप्रिय है। भगवान हनुमान के भक्त प्रत्येक सप्ताह के मंगलवार और शनिवार को मंदिर में भगवान हनुमान के लिए धार्मिक अनुष्ठान करते हैं। इस मंदिर का मुख्य त्योहार हनुमान जयंती है इस त्योहार के दोरान मंदिर में बड़ी संख्या में भगवान हनुमान की विशेष पूजा अर्चना करते है। मंदिर प्रबंधन वर्ष के सभी दिनों में सीमित लोगों को मुफ्त भोजन प्रदान करता है।

ऐतिहासिक कहानी

एक बार एक राजा शिकार करने के लिए जंगल में गया था जिसका नाम राजा प्रताप रुद्र था। राजा जंगल में शिकार करते थक गया था तो वह एक पेड़ के नीचे आराम कर रहा था। राजा ने तभी भगवान राम के नाम का जाप सुना। राजा जहां से, राम नाम के जाप की आवाज आ रही थी उस ओर गया। राजा आश्चर्य में पड़ गया कि इतने घने जंगल में के बीच में उसने भगवान हनुमान की एक पत्थर की मूर्ति देखी जिसमें से राज नाम के जाप की आवाज आ रहीं थी। राजा ने भगवान हनुमान की मूर्ति को प्रमाण किया और अपने राज्य में लौट आया। उसकी रात में राजा को भगवान हनुमान उसके सपने में दिखाई दिए और उसे एक मंदिर बनाने के लिए कहा।

राजा ने हनुमान मंदिर का निर्माण किया था। श्रीराम का ध्यान करते हनुमान जी के इस मंदिर को नाम दिया गया ‘ध्यानञ्जनेय स्वामी’ मन्दिर। लगभग 400 साल बाद, औरंगजेब ने मुगल साम्राज्य के और विस्तार के लिए देश के सभी कोनों में अपनी सेनाएँ भेज दीं। औरंगजेब की सेना मंदिर परिसर में कदम भी नहीं रख सकी थी। जब जनरल ने औरंगजेब को यह सूचना दी, तो वह खुद मंदिर तोड़ने के लिए लोहे के सब्बल के साथ गया। औरंगजेब जैसे ही मंदिर की दहलीज पर गया, उसे गड़गड़ाहट की तरह एक गगनभेदी गर्जन सुनाई दी, औरंगजेब आवाज से इतना डर गया कि उसके हाथ से लोहे का सब्बल फिसल गया। तब औरंगजेब ने आकाश में एक आवाज सुनी, ‘मंदिर तोड़ना है राजन, कर मन घाट’। जिसका अनुवाद है ‘यदि आप मंदिर को तोड़ना चाहते हो, तो हे राजा, अपने दिल को कठोर करो’ जिसके कारण इस मंदिर को नाम मिला कर्मंघट हनुमान मंदिर।

और आज तक, भगवान अंजनेय शांतिपूर्वक ध्यान करते हुए और भक्तों को आशीर्वाद देते हैं, ध्यान अंजनि स्वामी के रूप में।



Hanuman Festival(s)





आप इन्हें भी पढ़ सकते हैं


2021 के आगामी त्यौहार और व्रत











दिव्य समाचार










आप यह भी देख सकते हैं


EN हिं