श्री साईबाबा का मंदिर शिर्डी

Sai Baba Temple Shirdi

संक्षिप्त जानकारी

  • स्थान: शिरडी ताल। राहा जिला। अहमदनगर राज्य- महाराष्ट्र भारत पिन -423109
  • समय: सुबह 04:00 से रात 11:15 बजे (सभी दिन खुले)।
  • यात्रा का सर्वोत्तम समय: अक्टूबर से मार्च (विंटर सीजन)।
  • निकटतम हवाई अड्डा: श्री साईं बाबा के पवित्र मंदिर से लगभग 16 किलोमीटर की दूरी पर शिरडी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा।
  • नजदीकी रेलवे स्टेशन: श्री साईं बाबा के पवित्र मंदिर से लगभग 5.0 किलोमीटर की दूरी पर साईंनगर शिरडी रेलवे स्टेशन।
  • क्या आप जानते हैं: साईं बाबा मंदिर में भारत का सबसे बड़ा रसोईघर है। यहां रसोई में भोजन पकाने के लिए सौर ऊर्जा का उपयोग किया जाता है। यह स्थान दैनिक आधार पर 70,000 से 80,000 भक्तों की सेवा कर रहा है।
  • ऑनलाइन लाइव दर्शन के लिए

श्री साईबाबा का मंदिर शिर्डी गांव, जो अहमदनगर राज्य, महाराष्ट्र भारत में स्थित है। यह मंदिर सभी धर्मो का धार्मिक स्थल कहा जाता है। यह शिर्डी गांव के दिल में स्थित है और यह दुनिया भर से तीर्थयात्रियों का एक प्रमुख केंद्र है। श्री साईबाबा के मंदिर परिसर लगभग 200 वर्ग मीटर में बना हुआ है।

इस मंदिर को शिर्डी के साईं बाबा के नाम से भी जाना जाता है। साईं बाबा के आध्यात्मिक गुरु थे। साईं बाबा को उनके भक्तों द्वारा संत, एक फकीर, एक सत्गुरु और भगवान शिव के अवतार के रूप में मानते है। साईं बाबा अपने जीवन काल में हिन्दूं और मुस्लिम भक्तों द्वारा एक भगवान के रूप में सम्मानित किये जात थे तथा आज भी एक भगवान के रूप में ही स्वीकार व सम्मनित किये जाते है। साईबाबा को अब श्री दत्तात्रेय के अवतार के रूप में सम्मानित किया गया है, और सागुना ब्रह्मा के रूप में माना जाता है। साईं को अपने भक्तों द्वारा इस ब्रह्मांड के निर्माता, स्थिर और विध्वंसक होने का श्रेय दिया है। वह गहने और सभी प्रकार के हिंदू वैदिक देवताओं से सजाया जाता है क्योंकि वह सर्वोच्च भगवान है।

ऐसा माना जात है कि साईं बाबा का जन्म 1838 ई. में हुआ था। उनके जन्म, परिवार और शुरूआती सालों को कोई विवरण स्पष्ट नहीं है। उन्होंने 1858 से शिर्डी में रहना शुरू कर दिया था। साईं बाबा ने अपने जीवन काल में कई चमत्कार किए, जिनमें से अधिकांश चमत्कारों द्वारा बीमारियों का उपचार भी किया था। इसमें हैजा, कुष्ठ रोग, और प्लेग जैसे रोगों का पर्याप्त इलाज न मिल पाने के कारण बीमारियाँ बड़े पैमाने पर थीं।

साईं बाबा ने भी धर्म या जाति के आधार पर भेद की निंदा की। यह स्पष्ट नहीं है कि वह मुस्लिम या हिंदू थे। दोनों हिंदू और मुस्लिम अनुष्ठानों का अभ्यास करते थे, दोनों परंपराओं से शब्दों और आंकड़ों को पढ़ाते थे, और अन्त में 15 अक्टूबर 1918 में शिरडी में समाधि ली थी।

साईं बाबा हमेशा एक बात बोलते थे, ‘अल्लाह मालिक’ और ‘सबका मलिक एक’ जो हिंदू और इस्लाम दोनों के साथ जुड़ा हुआ है। उन्होंने यह भी कहते थे कि ‘तुम मुझे देखो, मैं तुम्हारा ख्याल रखोंगा’।

साईं बाबा मंदिर में हर रोज लगभग 25,000 श्रद्धालु साईं बाबा के दर्शन करने के लिए शिर्डी गांव में आते हैं। त्योहार के मौसम में, 1,00,000 से अधिक भक्त मंदिर हर रोज का दर्शन करने आतेे हैं। मंदिर परिसर वर्ष 1998-99 में पुनर्निर्मित किया गया है और अब दर्शन लेन, प्रसादल (दोपहर का भोजन और डिनर), दान काउंटर्स, प्रसाद काउंटर, कैंटीन, रेलवे आरक्षण काउंटर, बुकस्टॉल आदि जैसी सभी आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध हैं। आवास की सुविधा संस्थान द्वारा प्रदान की गई है।

वर्तमान मंदिर अहमदनगर जिले के श्री साँईं बाबा संस्थान ट्रस्ट द्वारा प्रशासित है। मंदिर परिसर में सभी बुनियादी सुविधाएँ हैं, जैसे पीने का पानी, विश्रामगृह, बैठने और आराम करने के लिए। मंदिर में धार्मिक वस्तुएँ, किताबें, चित्र और खाद्य पदार्थों की बिक्री करने वाली कई दुकानों उपलब्ध है।

साई बाबा मंदिर में देश की सबसे बड़ी किचन है यहाँ किचन में सोलर एनर्जी का उपयोग खाना बनाने के लिए किया जाता है। इस जगह दैनिक आधार पर 40,000 से अधिक भक्तों की सेवा कर रहा है।

You can Read in English...

आरती

मंत्र

चालीसा

आप को इन्हें भी पढ़ना चाहिए हैं :

Other Sai Baba Temples of Maharashtra

मानचित्र में श्री साईबाबा का मंदिर शिर्डी

आपको इन्हे देखना चाहिए

आने वाला त्योहार / कार्यक्रम

आज की तिथि (Aaj Ki Tithi)

ताज़ा लेख

इन्हे भी आप देख सकते हैं

X