108 फीट हनुमान मंदिर

108 फीट हनुमान मंदिर

महत्वपूर्ण जानकारी

  • Location: Karol Bagh, New Delhi, Delhi 110005.
  • Nearest Metro Station : Jhandewalan Metro Station.
  • Timings : 5.00am to 10.00 pm
  • Photography Charges: Not allowed in prayer hall>

108 फीट हनुमान मंदिर, जिसे संकट मोचन धाम के नाम से भी जाना जाता है, दिल्ली के मेट्रो नीली रेखा के साथ स्थित झंडेवाला मेट्रो स्टेशन के बहुत करीब स्थित है। मंदिर का निर्माण 1994 में शुरू हुआ और परियोजना को पूरा करने के लिए लगभग 13 साल लग गए। मंदिर कला, इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी का एक अद्भुत टुकड़ा है। मंदिर की ऊंचाई 108 फीट है जिसमें जम्मू एवं कश्मीर में वैष्णो देवी श्राइन के समान एक गुफा है। इस गुफा में पिंडी के रूप में एक पवित्र पिंड भी है और गंगा नदी के रूप में पानी का एक पवित्र प्रवाह है।

108 फुट की विशाल आकार ने इस मंदिर को पर्यटकों के बीच बहुत लोकप्रिय बना दिया है। यह मंदिर दिल्ली की प्रतिष्टिता का प्रतीक बन गया है और दिल्ली शहर के पोस्टर का एक प्रतीक भी बन गया है। मंदिर के प्रवेश द्वार राक्षस का खुला हुआ मुंह से है जो कि मरते हुए राक्षस को दर्शता है। यह भगवान हनुमान की महिमा को दर्शाता है जिसने अपने जीवन में कई राक्षसों को मार डाला था, और भगवान राम की सेवा की। मूर्ति के आधार पर मूर्ति के पैर के निकट स्थित देवी काली को समर्पित एक मंदिर भी है।

मंगलवार और शनिवार हनुमान मंदिर के लिए विशेष दिन हैं। शाम के दौरान आरती में एक बड़ी भीड़ इकट्ठी होती है। आरती के बीच में एक दर्शया आयोजित किया जाता है, जहां हनुमान की दोनों बाहें छाती खोलती और बंद करती तो सभी भक्तों को एक अद्भुत झलक मिलती है। जैसा रामायण में दर्शाया गया है, हनुमान के दिल में भगवान श्री राम और देवी सीता की सुंदर चित्र। मंगलवार और शनिवार को सप्ताह में दो बार सुबह 8.15 बजे और श्याम 8.15 बजे यह दर्शया आयोजित किया जाता है।

ऐसा कहा जाता है कि इस हनुमान मंदिर से पहले, वहां शिवजी के एक छोटा धुना (पवित्र राख का पोत) और यहां हनुमान की एक छोटी मूर्ति मौजूद थी। महंत नागाबाबा सेवागिर जी महाराज यहां तपस्या कर रहे थे तो उन्होनंे अपने शिष्यों बताया कि भगवान हनुमान उनके सपने में प्रकट हुए और यहां उनकी भव्य प्रतिमा की इच्छा व्यक्त की। इस सपने के बाद, उन्होंने यहां एक मंदिर के निर्माण के लिए परियोजना पर काम करना शुरू कर दिया।

इस मंदिर की एक विशेषता यहा है कि मंदिर जलने वाली पवित्र ज्योति, बाबाजी द्वारा 30 सितंबर, 2006 को कांगड़ा, हिमाचल प्रदेश, ज्वालाजी मंदिर से लाया गया था और तब से यहां पर निरंतर प्रज्योलित हो रही है। शिरडी के साईं बाबा, द्वारका की देवी और शनि महाराज भी मंदिर परिसर में स्थित हैं। भक्तों भगवान को काले कपड़े, एक (प्रतीकात्मक) चाकू, सरसों का तेल, ईटरर्न लैम, गुड़, चना, उडद दल, तिल, फूलों और नींबू आदि की मालाएं आदि की पेशकश करते हैं।



Hanuman Festival(s)





फोटो गैलरी


वीडियो गैलरी





2021 के आगामी त्यौहार और व्रत











दिव्य समाचार










आप यह भी देख सकते हैं


Humble request: Write your valuable suggestions in the comment box below to make the website better and share this informative treasure with your friends. If there is any error / correction, you can also contact me through e-mail by clicking here. Thank you.

EN हिं