देवप्रयाग

Short information

  • Location: Devaprayag, Uttarakhand 249301
  • Best time to visit : Feburary to November.
  • Nearest Railway Station : Rishikesh Railway Station at a distance of nearly 71.5 kilometres from Devaprayag.
  • Nearest Airport : Jolly Grant Airport at a distance of nearly 90.9 kilometres from Devaprayag.
  • By Road: Rishikesh - Shiva Puri -Sirasu - Byasi - Bachedikhal - Pipal Koti - Devaprayag. (Rishikesh to Devaprayag distance approx 74.2 km) Travel time aprrox 2 to 3 hours.
  • Did you know: Devaprayag is birthplace of holy river Ganga. Devaprayag is one of the 108 Divyadesam dedicated to Lord Vishnu. It is one of the five holy confluences in the hills which is called Panch Prayag.

देवप्रयाग हिन्दू धर्म के लिए एक महत्वपूर्ण स्थान है जो भारत के उत्तराखंड राज्य में तेहरी गढ़वाल जिले, में एक शहर और एक नगर पंचायत (नगर पालिका) है। यह पहाड़ियों में पांच पवित्र संगमों में से एक है जिसे पंचप्रयाग कहा जाता है। हिंदुओं के लिए तीर्थयात्रा का एक महत्वपूर्ण स्थान है। यह स्थान ऋषिकेश-बद्रीनाथ राजमार्ग पर स्थित है।

संस्कृत में ‘देवप्रयाग’ का अर्थ है ‘ईश्वरीय संगम’। हिंदू शास्त्रों के अनुसार, देवप्रयाग पवित्र स्वर्णों के निर्माण के लिए दो स्वर्गीय नदियों, अलकनंदा और भागीरथी मिलन का पवित्र स्थान है। यहीं वह स्थान है जो कि हिन्दूओं की पवित्र नदी जिसका हिन्दू धर्म में विशेष स्थान है, गंगा नदी का जन्म होता है। ऐसा भी कहा जा सकता है कि अलकनंदा नदी का अन्तिम स्थान है।

देवप्रयाग में एक पवित्र मंदिर है जिसको रघुनाथ मंदिर के नाम से जाना जाता है। यह मंदिर भगवान विष्णु के 108 दिव्यदेवों में से एक है अर्थात् 108 दिव्य स्थानों में से एक है।

माना जाता है कि सृष्टि के निर्माण कर्ता भगवान ब्रह्मा ने इस जगह पर तपस्या की है और इस जगह को प्रयाग के नाम से जाना जाने लगा, जिसका मतलब तपस्या करने का सबसे अच्छा स्थान है।

देवप्रयाग, स्वर्गीय आचार्य पंडित चक्रधर जोशी का घर है जो एक खगोल विज्ञान और ज्योतिष में एक विद्वान थे। जिन्होंने 1946 में नक्षत्र वेद शाला (एक वेदशाला) की स्थापना की थी। यह देवप्रयाग में दशरथंचल नामक पर्वत पर स्थित है। वेदशाला खगोल विज्ञान में अनुसंधान का समर्थन करने के लिए दो दूरबीनों और कई किताबों से सुसज्जित है। इसमें 1677 ईस्वी से देश के विभिन्न हिस्सों से एकत्रित 3000 हस्तलेख (हाथों से लिखी पुस्तक) भी शामिल हैं। नवीनतम उपकरणों के अलावा, इसमें सूर्य घाटी, ध्रुव घाटी जैसे प्राचीन उपकरण भी हैं जो खगोल विज्ञान के क्षेत्र में भारतीय प्रगति का गौरव दिखाते हैं।

देवप्रयाग में बहुत प्राकृतिक सुंदरता है। देवप्रयाग में संगम और रघुनाथ जी मंदिर के अलावा, पास के गांव पुंडल में माता भुवनेश्वरी मंदिर जैसे धनेश्वर महादेव मंदिर, दांडा नागगराज (सांपों के भगवान) मंदिर और चंद्रबाबनी मंदिर जैसे पवित्र स्थानों पर जा सकते हैं।

पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान राम के पैरों के निशान ‘राम कुंडा’ में मौजूद हैं। देवप्रयाग बद्रीनाथ के पुजारियों का घर है। उन्हें ‘पांडस’ के नाम से जाना जाता है। प्रत्येक पांडा के पूरे देश में अपना क्षेत्र है।

देवप्रयाग 3 ईश्वरीय चोटियों से घिरा हुआ है, जिसका नाम गिद्धंचल पर्वत, दशरथंचल पर्वत, और नरसिंहलल पार्वत है। गढ़ंचल पर्वत रघुनाथ जी मंदिर के शीर्ष पर है। नरसिंहंचल पार्वत गिद्धंचल पर्वत के सामने है और दशरथंचल पर्वत ‘संगम’ के शीर्ष दाहिने तरफ है।

Read in English...

मानचित्र में देवप्रयाग

वेब के आसपास से

    We use cookies in this webiste to support its technical features, analyze its performance and enhance your user experience. To find out more please read our privacy policy.