कसार देवी मंदिर उत्तराखंड

Kasar Devi Temple

Short information

  • Location: Binsar, Rd, Kasardevi, Almora, Uttarakhand 263601.
  • Open and Close Timings : 07:00 am to 07:00 pm.
  • Nearest Railway Station : Kathgodam Railway Station at a distance of nearly 89.3 kilometres from Kasar Devi Mandir.
  • Nearest Airport : Pantnagar Airport at a distance of nearly 123 kilometres from Kasar Devi Mandir.
  • By Road : Delhi to Kasardevi distance approx 357 km.
  • Best Time to Visit : Kartik Poornima.
  • Did you Know : Swami Vivekananda came to this place for meditation in 1890 and Vivekananda had a special feeling at this place. This place of Uttarakhand Dev Bhoomi is the only place in India and the third such place in the world, where special magnetic powers are present.

कसार देवी, एक हिन्दू मंदिर है जो कि भारत के राज्य उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले के कसार देवी गांव में स्थित है। इस मंदिर का नाम देवी भूमि उत्तराखंड के चमत्कारी मंदिरों में आता है। मंदिर चारों तरफ से ऊंचे ऊंचे देवदार के पेड़ों से घिरा हुआ है। मंदिर के चारों तरफ प्रकृति का अद्भुत सौन्दर्य है।

कसार देवी मंदिर में माँ कसार देवी को दुर्गा का रूप माना जाता है। अल्मोड़ा के बागेश्वर हाईवे पर “कसार” नामक गांव में स्थित है। ये मंदिर कश्यप पहाड़ी की चोटी पर स्थित है। कसार देवी मंदिर में माँ दुर्गा साक्षात प्रकट हुई थी। मंदिर में माँ दुर्गा के आठ रूपों में से एक रूप “देवी कात्यायनी” की पूजा की जाती है।
मंदिर में मंदिर के दो अलग-अलग समूह हैं जिनमें से एक देवी और एक अन्य भगवान शिव और भैरव हैं। मुख्य मंदिर में अखंड ज्योति है जो वर्षों से 24 घंटे जलती रहती है। इसमें एक हवन कुंड भी है, जहां लकड़ी के लॉग को 24 घंटे जलाया जाता है। धुनी की राख को बहुत शक्तिशाली कहा जाता है, जो किसी भी मानसिक रोगी को ठीक कर सकती है।

देवी का मुख्य मंदिर एक गुफा के अंदर स्थित है जैसे विशाल चट्टानें। 8 किलोमीटर की लंबी पैदल यात्रा और ट्रैकिंग के जरिए भी यहां मंदिर तक पहुंचा जा सकता है। ऐसा माना जाता है कि स्वामी विवेकान्द 1890 में ध्यानयोग के लिए इस स्थान पर आये थे तथा विवेकान्द जी को इस स्थान पर विशेष अनुभूति हुई थीं। कई पश्चिमी साधक, सन्याता बाबा अल्फ्रेड सोरेंसन और लामा अंजारिका गोविंदा। गाँव के ठीक बाहर क्रैंक के रिज के लिए भी एक जगह है, जो 1960 और 1970 के दशक के हिप्पी आंदोलन के दौरान लोकप्रिय गंतव्य था, और घरेलू और विदेशी दोनों तरह के ट्रेकर्स और पर्यटकों को आकर्षित करता है। उत्तराखंड देवभूमि का ये स्थान भारत का एकमात्र और दुनिया का तीसरा ऐसा स्थान है, जहाँ खास चुम्बकीय शक्तियाँ उपस्थित है। कसारदेवी मंदिर की अपार शक्ति से बड़े-बड़े वैज्ञानिक भी हैरान हैं।

हिल टॉप घाटी और हिमालय के सुंदर दृश्य प्रदान करता है जो इसे फोटोग्राफी के लिए उपयुक्त जगह बनाते हैं। हिंदू कैलेंडर में कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर नवंबर और दिसंबर के बीच कासर देवी मंंिदर में आयोजित किया जाता है।

Read in English...

आप को इन्हें भी पढ़ना चाहिए हैं :

Other Durga Mata Temples of Uttrakhand

मानचित्र में कसार देवी मंदिर उत्तराखंड

आपको इन्हे देखना चाहिए

आने वाला त्योहार / कार्यक्रम

आज की तिथि (Aaj Ki Tithi)

ताज़ा लेख

इन्हे भी आप देख सकते हैं

X