भगवद गीता अध्याय 1, श्लोक 17

Bhagavad Gita Chapter 1, Shlok 17

काश्यश्च परमेष्वास: शिखण्डी च महारथ: |
धृष्टद्युम्नो विराटश्च सात्यकिश्चापराजित: || 17||

महान धनुर्धर और काशी के राजा, महान योद्धा शिखंडी, धृष्टद्युम्न, विराट, और अजेय सत्यकी.

शब्द से शब्द का अर्थ:

काशी - काशी का राजा
चा - और
परम-इशु - दास-उत्कृष्ट धनुर्धर
शिखंडी - शिखंडी
चा - भी
महा-रत्न - योद्धा जो अकेले ही दस हजार साधारण योद्धाओं की ताकत से मेल खा सकते थे
धृष्टद्युम्नो - धृष्टद्युम्न
विराटः - विराट
चा - और
सात्यकिह - सत्यकी
अपराजितः - अजेय

 

You can Read in English...

आप को इन्हें भी पढ़ना चाहिए हैं :

आपको इन्हे देखना चाहिए

आने वाला त्योहार / कार्यक्रम

आज की तिथि (Aaj Ki Tithi)

ताज़ा लेख

इन्हे भी आप देख सकते हैं

X