भगवद गीता अध्याय 1, श्लोक 34

Bhagavad Gita Chapter 1, Shlok 34

आचार्या: पितर: पुत्रास्तथैव च पितामहा: |
मातुला: श्वशुरा: पौत्रा: श्याला: सम्बन्धिनस्तथा || 34||

शिक्षक, पिता, पुत्र, दादा, मामा, पोते, पिता, दादा, भतीजे, भाई-बहन और अन्य परिजन यहां मौजूद हैं, जिससे उनके जीवन और धन की प्राप्ति होती है।

शब्द से शब्द का अर्थ:

आचार्य - शिक्षक
पितरौ - पिता
पुत्रा - पुत्र
तत - साथ ही
एव - वास्तव में
चा - भी
पितामह - दादा
मातुल्य - मामा
श्वशुरा:  - पिता जी
पौत्राः - पौत्र
श्याला: - भाई जी
सम्बन्धिनस्तथा - परिजन

You can Read in English...

आप को इन्हें भी पढ़ना चाहिए हैं :

आपको इन्हे देखना चाहिए

आगामी त्योहार और व्रत 2021

आज की तिथि (Aaj Ki Tithi)

ताज़ा लेख

इन्हे भी आप देख सकते हैं

X