भगवद गीता अध्याय 1, श्लोक 15

भगवद गीता अध्याय 1, श्लोक 15

पाञ्चजन्यं हृषीकेशो देवदत्तं धनञ्जय: |
पौण्ड्रं दध्मौ महाशङ्खं भीमकर्मा वृकोदर: || 15||

हृषिकेश ने अपने शंख को उड़ा दिया, जिसे पांचजन्य कहा जाता है, और अर्जुन ने देवदत्त को उड़ा दिया। भीम, जो भयंकर भक्षक और विधर्मी कार्यों के कर्ता-धर्ता थे, ने अपने पराक्रमी शंख को उड़ा दिया, जिसे पुंड्र कहा जाता है।

शब्द से शब्द का अर्थ:

पञ्चजन्यम् -  पंचजन्य नाम का शंख
हृषीकेशो - श्री कृष्ण, मन और इंद्रियों के भगवान; देवदत्तम् - देवदत्त नाम का शंख
धनम-जय - अर्जुन, धन का विजेता
पौराम - पुंडरा नाम का शंख
दध्मौ  - विस्फोट से उड़ा दिया
महा-शंखम् — शक्तिशाली शंख
भीमकर्मा - एक जो वनौषधि कार्य करता है
वृकोदर: - भीम भक्षक



2021 के आगामी त्यौहार और व्रत











दिव्य समाचार










आप यह भी देख सकते हैं


Humble request: Write your valuable suggestions in the comment box below to make the website better and share this informative treasure with your friends. If there is any error / correction, you can also contact me through e-mail by clicking here. Thank you.

EN हिं