भगवद गीता जयंती

Bhagavad Gita Jayanti

संक्षिप्त जानकारी

गीता जयंती हिन्दुओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण दिन है इस दिन हिन्दुओं के पवित्र ग्रंथ भगवद् गीता का जन्म हुआ था अर्थात् गीता जयंती वह दिन है जब भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को गीता सुनाई थी। यह हिंदू कैलेंडर के मार्गशीर्ष महीने के 11 वें दिन शुक्ल एकादशी को मनाया जाता है। भगवद् गीता का वर्णन स्वयं भगवान श्रीकृष्ण ने महाभारत के युद्ध प्रारंभ होने से पहले किया था। ऐसा विश्वास है कि महाभारत में पांडव और कौरवों के बीज हर सम्भव सुलह के प्रयास के बाद भी युद्ध होना निश्चत हो गया था।

कुरुक्षेत्र के युद्ध के मैदान में कृष्ण द्वारा स्वयं अर्जुन को ‘भगवद गीता’ प्रकट की गई थी। अब यह स्थान भारत के राज्य हरियाणा में कुरुक्षेत्र के नाम से है। कुरुक्षेत्र हिन्दुओं का पवित्र व मुख्य धार्मिक स्थल है। यह ग्रंथ तीसरे व्यक्ति द्वारा लिखा गया है। जिसे राजा धृतराष्ट्र को संजय द्वारा सुनाया गया था, क्योंकि गीता का वर्णन भगवान श्रीकृष्ण और अर्जुन के बीच में हुआ था। संजय को उनके गुरु वेद व्यास द्वारा आशीर्वाद व शक्ति प्रदान कि गई थी, कि वह युद्ध के मैदान में होने वाली घटनाओं को दूर से ही देख सकता है।

गीता जयंती को एक त्योहार के रूप में मनाया जाता है। भगवान कृष्ण के सभी भक्तों (सनातन धर्म के अनुयायियों) द्वारा दुनिया भर में गीता जयंती का त्योहार मनाया जाता है। गीता में लगभग 700 श्लोक है जो सभी मनुष्यों को जीवन के कई महत्वपूर्ण पहलुओं के बारे ज्ञान प्रदान करते हैं। जो आध्यात्मिक रूप से प्रगति करना चाहते हैं वह गीता का अध्ययन करते है।

इस दिन ज्यादातर लोग उपवास भी करते हैं क्योंकि यह एकादशी का दिन है (एकादशी का व्रत चंद्रमा और अमावस्या का ग्यारहवाँ दिन होता है) - यह प्रत्येक चंद्र मास में दो बार होता है। इस दिन भजनों और पूजाओं का आयोजन होता है। जिन जगहों पर यह त्यौहार भव्य रूप से मनाया जाता है, वहां बच्चों को गीता पढ़ने के लिए उनकी रुचि को प्रोत्साहित करने के तरीके के रूप में दिखाने के लिए स्टेज प्ले और गीता जप प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है। योगी, संन्यासी और विद्वान विद्वान इस पवित्र ग्रंथ की वार्ता और आयोजन करते हैं। गीता के सार वाले पत्रक, पुस्तिकाएं और पुस्तकें जनता को वितरित की जाती हैं। इस पवित्र दिन पर गीता की मुफ्त प्रतियां वितरित करना विशेष रूप से शुभ है।

भगवद गीता के सभी 18 अध्याय नाम इस प्रकार हैं:

अध्याय 1: अर्जुन के योग का योग (अर्जुनविषादयोग)
अध्याय 2: विश्लेषण का योग (साख्य-योग)
अध्याय 3: क्रिया का योग (कर्म-योग)
अध्याय 4: ज्ञान का योग (ज्ञान-योग)
अध्याय 5: त्याग का योग (संन्यास-योग)
अध्याय 6: ध्यान का योग (ध्यान-योग)
अध्याय 7: ज्ञान का योग (ज्ञानविज्ञानयोग)
अध्याय 8: आत्मा मुक्ति का योग (अक्षरब्रह्मयोग)
अध्याय 9: द योगा ऑफ़ रॉयल एंड हिडन नॉलेज (राजविद्याराजगुह्ययोग)
अध्याय 10: उत्कृष्टता का योग (विभक्ति-योग)
अध्याय 11: ब्रह्मांडीय रूप देखने का योग (विश्वरूपदर्शनयोग)
अध्याय 12: भक्ति का योग (भक्ति-योग)
अध्याय 13: आत्मा से विशिष्ट योग का योग (क्षेत्रक्षेत्रज्ञविभागयोग)
अध्याय 14: द थ्रीफोल्ड योगों का योग (गुणत्रयविभागयोग)
अध्याय 15: अंतिम व्यक्ति के योग (पुरुषोत्तमयोग)
अध्याय 16: ईश्वरीय और असंयमी आस्तियों को अलग करने का योग (दैवासुरसम्पद्विभागयोग)
अध्याय 17: तीन गुना विश्वास के योग (श्रद्धात्रयविभागयोग)
अध्याय 18: मुक्ति का योग (मोक्षसंन्यासयोग)

गीता मंदिर

श्री गीता बिड़ला मंदिर
गीता मंदिर मथुरा

You can Read in English...

आरती

मंत्र

चालीसा

आप को इन्हें भी पढ़ना चाहिए हैं :

Other Bhagavad Gita Indian Festival of Hindu Festival

Bhagavad Gita Jayanti बारे में


आगामी त्यौहार

बुद्ध पूर्णिमा 2021 मोहिनी एकादशी 2021 वैशाख पूर्णिमा 2021 अचला या अपरा एकादशी 2021 गंगा दशहरा 2021

आपको इन्हे देखना चाहिए

आगामी त्योहार और व्रत 2021

आज की तिथि (Aaj Ki Tithi)

ताज़ा लेख

इन्हे भी आप देख सकते हैं

X