कालका जी मंदिर

कालका जी मंदिर

महत्वपूर्ण जानकारी

  • स्थान: मेट्रो स्टेशन, नियर, मा आनंदमयी मार्ग, एनएसआईसी एस्टेट, ब्लॉक 9, कालकाजी, नई दिल्ली, दिल्ली 110019।
  • निकटतम मेट्रो स्टेशन: कालकाजी मंदिर से लगभग 500 मीटर की दूरी पर कालकाजी मेट्रो स्टेशन।
  • मंदिर खुला और बंद समय:
  • 04:00 पूर्वाह्न से 11:30 पूर्वाह्न तक
  • दोपहर 12:00 से दोपहर 03:00 बजे
  • शाम 4:00 बजे से 11:30 बजे तक
  • आरती का समय
  • सुबह: 06:00 बजे से 07:30 बजे (शीतकालीन)
  • शाम: 06:30 अपराह्न से 08:00 बजे (शीतकालीन)
  • सुबह: 05:00 बजे से 06:30 बजे (ग्रीष्म)
  • शाम: 07:00 बजे से 08:30 बजे (ग्रीष्म)
  • # कालकाजी मंदिर, # कालकाजी मंदिर समय, # कालकाजी आरती समय

कालका जी का मंदिर बहुत प्रसिद्ध व हिन्दूओं के लिए बहुत आस्था का मंदिर है। कालका मंदिर देवी कालका व काली देवी को सम्मर्पित है जो कि काली देवी का अवतार है। यह मंदिर दक्षिण दिल्ली, कमल के मंदिर के पास, भारत में स्थित है। यह मंदिर दिल्ली के प्रमुख पर्यटक स्थलों में से एक है।

ऐसा माना जाता है कि इस मंदिर का निर्माण 1764 ई. में तथा इस मंदिर में पांडवों और कौरवों ने पूजा की थी। 19वीं शताब्दी के मध्य में राजा केदारनाथ व सम्राट अकबर के द्वारा मंदिर में कुछ परिवर्तन किए गये थे। 20वीं शताब्दी में मंदिर का पुनः निर्माण भक्तों द्वारा दिये गये योगदान से किया गया था। आधुनिक तरीके से बनाया गया मंदिर 8 तरफा है, संरचना जो संगमरमर के सफेद व काले पत्थरों से बनाया गया है। मंदिर में काले पत्थर से बनी देवी की मूर्ति देवी काली को दर्शाती है।

मंदिर से संबंधित पौराणिक कथा

ऐसा माना जाता है कि राक्षसों से परेशान होकर सभी देवता ब्रह्मा जी के पास गए थे परन्तु ब्रह्मा जी ने सभी देवताओं को माता पार्वती के पास जाने की सलाह दी थी। तब देवताओं और ब्रह्मा जी द्वारा की गई प्रार्थना व अनुष्ठान से प्रसन्न होकर, मंदिर के स्थल पर प्रकट हुईं और उन्हें आशीर्वाद दिया, और स्थल पर बस गईं। महाभारत के दौरान, भगवान कृष्ण और पांडवों के बारे में कहा जाता है कि उन्होंने युधिष्ठिर के शासनकाल में इस मंदिर में काली की पूजा की थी। माना जाता है कि मंदिर का निर्माण ठोक ब्राह्मणों और ठोक जोगियों ने काली के आदेश पर किया था।

इसे जयंती पीठ या मनोकामना सिद्ध पीठ भी कहा जाता है। “मनोकामना“ का शाब्दिक अर्थ है इच्छा, “सिद्ध“ का अर्थ है पूर्ति, और “पीठ“ का अर्थ है तीर्थ। इसलिए, यह पवित्र मंदिर माना जाता है जहां किसी की इच्छाओं की पूर्ति के लिए मां कालिका देवी का आशीर्वाद मिलता है।

प्रमुख त्योहार व सांस्कृतिक कार्यक्रम

कालका जी मंदिर में सभी त्यौहार मनाये जाते है विशेष कर दुर्गा पूजा व नवरात्र के त्यौहार पर विशेष पूजा का आयोजन किया जाता है। इस दिन मंदिर को फूलो व लाईट से सजाया जाता है। मंदिर का आध्यात्मिक वातावरण श्रद्धालुओं के दिल और दिमाग को शांति प्रदान करता है। श्री कालकाजी मंदिर संचालन का कार्य ‘श्री कालकाजी मंदिर प्रबंधक सुधार समिति (रजि.)’ द्वारा किया जाता है।  

बच्चों का मुंडन

श्री कालकाजी मंदिर को एक ऐसे स्थान के रूप में भी जाना जाता है, जहाँ भक्त अपने बच्चों का मुण्डन (बाल उत्थान) भी कराते है। कोई भी भक्त अपने बच्चों का मुण्डन सुबह 6 बजे और रात 10 बजे के बीच कभी भी करा सकता है।



Durga Mata Festival(s)









2021 के आगामी त्यौहार और व्रत











दिव्य समाचार










आप यह भी देख सकते हैं


EN हिं