बटेश्वर नाथ मंदिर

बटेश्वर नाथ मंदिर

महत्वपूर्ण जानकारी

  • स्थान: आगरा जिला, बाह तहसील, बटेश्वर, उत्तर प्रदेश 283104
  • मंदिर खुला और समापन समय: शाम 04:00 से 09:00 बजे श्रवण के दौरान (अगस्त-सितंबर - सोमवार केवल): 12:00 से 09:00 बजे।
  • निकटतम रेलवे स्टेशन: शिकोहाबाद जंक्शन रेलवे स्टेशन 12 किमी की दूरी।
  • निकटतम हवाई अड्डा: बटेश्वर से लगभग 88.2 किलोमीटर की दूरी पर पंडित दीन दयाल उपाध्याय हवाई अड्डा, आगरा।
  • घूमने का सबसे अच्छा समय: अक्टूबर से मार्च का समय यात्रा करने का सबसे अच्छा समय होता है और (श्रावण माह के दौरान)।
  • जिला: आगरा
  • महत्वपूर्ण त्योहार: महा शिवरात्रि।
  • प्राथमिक देवता: शिव।
  • क्या आप जानते हैं: बटेश्वर को 101 भगवान शिव मंदिरों के लिए जाना जाता है।
  • अटल बिहारी वाजपेयी के दादा, पंडित श्याम लाल वाजपेयी उत्तर प्रदेश के अपने पैतृक गाँव बटेश्वर से मुरैना, ग्वालियर चले गए थे।

बटेश्वर नाथ मंदिर बहुत प्राचीन मंदिर है। बटेश्वर यमुना नदी के तट पर आगरा (उत्तर प्रदेश) से 70 किमी की दूरी पर स्थित है। बटेश्वर एक समृद्ध इतिहास के साथ सबसे पुराने गांवों में से एक है। यह भारत में महत्वपूर्ण आध्यात्मिक और सांस्कृतिक केंद्र में से एक है। बटेश्वर स्थल यमुना और शौरीपुर के तट पर स्थित 101 शिव मंदिरों के लिए जाना जाता है। हिंदुओं के भगवान शिव के सम्मान में यमुना नदी तट पर स्थित बटेश्वर धाम की तीर्थयात्रा करते हैं। कुछ मंदिरों की दीवारों और छत में आज भी सुन्दर आकृतियां बनी हुई है। 22वें तीर्थंकर प्रभु नेमिनाथ शौरीपुर में पैदा हुआ थे। इस क्षेत्र के रूप में अच्छी तरह से जैन पर्यटकों को आकर्षित करती है।

यमुना के तट पर एक पंक्ति में 101 मंदिर स्थित हैं जिनको राजा बदन सिंह भदौरिया द्वारा बनाया गया था। राजा बदन सिंह ने यमुना नदी के प्रवाह को जो कभी पश्चिम से पूर्व कि ओर था उसको बदल कर पूर्व से पश्चिम की ओर अर्थात् बटेश्वर की तरफ कर दिया गया था। इन मंदिरों को यमुना नदी के प्रवाह से बचाने के लिए एक बांध का निर्माण भी राजा बदन सिंह भदौरिया द्वारा किया गया था। बटेश्वर नाथ मंदिर का रामायण, महाभारत, और मत्स्य पुराण के पवित्र ग्रंथों में इसके उल्लेख मिलता है।

बटेश्वर मंदिर में सावन का महीना बहुत ही अहम है। सावन के महीने में यह मेला के आयोजन किया जाता है।  भक्त बटेश्वर बाबा पर गंगा जल अप्रीत करने के लिए बटेश्वर से लगभग 160 किलोमीटर दूर से गंगा जल भक्त अपनी कावर में लेकर आते है। बटेश्वर धाम में सावन महीनें के प्रत्येक सोमवार को ही कावर का जल अप्रीत किया जाता है। इस दौरान हजारों भक्त कावर लेकर बटेश्वर मंदिर में आते है। शिवरात्रि बटेश्वर मंदिर का प्रमुख त्योहार है।



Shiv Festival(s)









फोटो गैलरी


वीडियो गैलरी





2021 के आगामी त्यौहार और व्रत











दिव्य समाचार










आप यह भी देख सकते हैं


EN हिं