भगवद गीता अध्याय 2, श्लोक 3

Bhagavad Gita Chapter 2, Shlok 3

क्लैब्यं मा स्म गम: पार्थ नैतत्त्वय्युपपद्यते |
क्षुद्रं हृदयदौर्बल्यं त्यक्त्वोत्तिष्ठ परन्तप || 3||

हे पार्थ, इस असामाजिकता के आगे झुकना तुम्हें शोभा नहीं देता। हृदय की ऐसी क्षुद्र दुर्बलता को त्याग दो और उठो, हे शत्रुओं के वनवासी।

शब्द से शब्द का अर्थ:

क्लैब्यं - अविद्या
मा स्म - मत करो
गम: - उपज
पार्थ - अर्जुन, प्रथ का पुत्र
ना - नहीं
एतत् - यह
त्वयि - आप के लिए
उपपद्यते - उपयुक्त
क्षुद्रं - क्षुद्र
हदय - ह्रदय
दौर्बल्यं - कमजोरी
त्यक्तव - देना
उत्तिष्ठा - उत्पन्न होना
परन्तप - शत्रुओं का विजेता

You can Read in English...

आप को इन्हें भी पढ़ना चाहिए हैं :

आपको इन्हे देखना चाहिए

आने वाला त्योहार / कार्यक्रम

आज की तिथि (Aaj Ki Tithi)

ताज़ा लेख

इन्हे भी आप देख सकते हैं

X