भगवद गीता अध्याय 2, श्लोक 61

Bhagavad Gita Chapter 2, Shlok 61

तानि सर्वाणि संयम्य युक्त आसीत मत्पर: |
वशे हि यस्येन्द्रियाणि तस्य प्रज्ञा प्रतिष्ठिता || 61||

वे पूर्ण ज्ञान में स्थापित हैं, जो अपनी इंद्रियों को वश में रखते हैं और अपने मन को कभी भी मुझ में समाहित रखते हैं।

शब्द से शब्द का अर्थ:

तन्नी - उन्हें
सर्वाणि - सभी
संयम्य - वशीकरण
युक्त - एकजुट
आसीत - बैठा हुआ
मत्पर: - मेरी ओर (श्रीकृष्ण)
वशे - नियंत्रण
हि - निश्चित रूप से
यस्ये - जिसका
इंन्द्रियाणि - इंद्रियों
तस्य - उनके
प्रज्ञा - उत्तम ज्ञान
प्रतिष्ठिता - तय हो गया है

 

You can Read in English...

आप को इन्हें भी पढ़ना चाहिए हैं :

आपको इन्हे देखना चाहिए

आने वाला त्योहार / कार्यक्रम

आज की तिथि (Aaj Ki Tithi)

ताज़ा लेख

इन्हे भी आप देख सकते हैं

X