भगवद गीता अध्याय 2, श्लोक 47

Bhagavad Gita Chapter 2, Verse 47

कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन |
मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोSस्त्वकर्मणि || ४७ ||

तुम्हें अपना कर्म करने का अधिकार है, किन्तु कर्म के फलों के तुम अधिकारी नहीं हो। तुम ने तो कभी अपने आपको अपने कर्मो के फलों का कारण मानो, न ही कर्म न करने में कभी आसक्त होओ।

Read in English...

आप को इन्हें भी पढ़ना चाहिए हैं :

आपको इन्हे देखना चाहिए

आने वाला त्योहार / कार्यक्रम

आज की तिथि (Aaj Ki Tithi)

ताज़ा लेख

इन्हे भी आप देख सकते हैं

X