भगवद गीता अध्याय 2, श्लोक 28

Bhagavad Gita Chapter 2, Shlok 28

अव्यक्तादीनि भूतानि व्यक्तमध्यानि भारत |
अव्यक्तनिधनान्येव तत्र का परिदेवना || 28||

हे भरत की, सभी निर्मित प्राणी जन्म से पहले, जीवन में प्रकट होते हैं, और मृत्यु पर फिर से अव्यक्त होते हैं। तो शोक क्यों?

शब्द से शब्द का अर्थ:

अव्यक्तादीनि - जन्म से पहले अव्यक्त
भूतानि - निर्मित प्राणी
व्यक्ता - प्रकट
मध्यानि - मध्य में
भारत - अर्जुन, भरत का वंश
अव्यक्त - अव्यक्त
निधानाणि - मृत्यु पर
एव - वास्तव में
तत्र - इसलिए
का - क्यों
परिदेवना - शोक

You can Read in English...

आप को इन्हें भी पढ़ना चाहिए हैं :

आपको इन्हे देखना चाहिए

आने वाला त्योहार / कार्यक्रम

आज की तिथि (Aaj Ki Tithi)

ताज़ा लेख

इन्हे भी आप देख सकते हैं

X