खाटूश्याम मंदिर

खाटूश्याम मंदिर

महत्वपूर्ण जानकारी

  • Location: Near Shyam Darbar, Khatu, Rajasthan 332602
  • Timings: Winter- 6.00 am to 12.00 am and 4.00 pm to 9.00 pm
  • Summer- 4.30 am to 1.00 pm and 5.00 pm to 10.00 pm
  • (best time to visit during morning and evening aarti)
  • Types of Aarti: Mangala Aarti, Shringaar Aarti, Bhog Aarti, Sandhya Aarti, Sayana Aarti
  • Nearest Railway Station : Ringas Junction railway station at a distance of nearly 17 kilometres from Khatu Shyam Temple.
  • Nearest Airport : Jaipur International Airport at a distance of nearly 94 kilometres from Khatu Shyam Temple.
  • Photography Charges: Not allowed in prayer hall
  • Did you know: Barbarika had obtained a boon from Lord Krishna that he would be known by Krishna's own name (Shyam) and worshipped in the Kaliyuga era.

हिंदू पौराणिक कथाओं में, खाटूश्याम जी घाटोटकच के पुत्र बरबरिक का नाम और अभिव्यक्ति है। बरबरिक ने भगवान कृष्ण से वरदान प्राप्त किया था कि उन्हें कृष्ण के नाम (श्याम) से जाना जाएगा और उसकी कलियुग युग में पूजा की जाएगी। कृष्णा ने घोषणा की कि भक्तों द्वारा अपने दिल की गहराई से भगवान कृष्ण द्वारा दिया गया नाम ‘श्याम’ का जाप करने से भक्तों का आर्शीवाद मिलेगा। उनकी इच्छाएं पूरी हो जाएंगी और परेशानियों को खत्म हो जाएगी, यदि वे श्यामजी (बरबरिका) की सच्ची पवित्रता के साथ पूजा करते हैं।

खाटुश्याम मंदिर राजस्थान राज्य के सीकर जिले में, सीकर से 48 किमी और दिल्ली के 300 किमी (लगभग) पश्चिम की दूरी पर स्थित है। यह पवित्र स्थान राजस्थान के सबसे महत्वपूर्ण तीर्थ केंद्रों में से एक है।

मंदिर की वास्तुकला शानदार है। जगमोहन के नाम से मंदिर के बाहर प्रार्थना कक्ष की दीवारों को व्यापक रूप से चित्रित किया गया है, जो कई पौराणिक दृश्यों को दर्शाता है। चूना, संगमरमर और टाइल्स के द्वारा संरचना का निर्माण किया गया है। मंदिर के गर्भ गृह को अन्दर से खूबसूरती से चांदी की चादरों से ढका गया हैं। प्रवेश द्वार और निकास द्वार संगमरमर से बने हुए हैं और इन पत्थरों पर बहुत ही सुंदर सजावटी पुष्प डिजाइन चित्रित किये गये हैं।
यहां आयोजित मेला जीवन शक्ति, भीड़ और प्रत्याशा का अपवाद है। दुकानों को बहुत ही खूबसूरती से सजाया जाता है और आगंतुकों के लिए विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम और खाने के कई मिठाई उपलब्ध रहती हैं।

श्याम कुंड में स्नानः
यह मंदिर के पास पवित्र तालाब है जहां से मूर्ति को पुनर्प्राप्त किया गया था। ऐसा माना जाता है कि इस तालाब में डुबकी लगाने से व्यक्ति को बीमारियों से छुठकारा मिल जाता है और अच्छे स्वस्थ्य की प्राप्ती होती है। भक्तिपूर्ण और उत्साह से भरे लोग श्याम कुंड में अनुष्ठान डुबकी लेते हैं। वार्षिक फाल्गुना मेला त्यौहार के दौरान स्नान विशेष रूप से पवित्र माना जाता है।

खटू श्यामजी मंदिर में आरती के प्रकार :-
मंगला आरतीः यह सुबह के समय में कि जाती है जब मंदिर खोला जाता है।
श्रंगार आरतीः यह बाबा श्याम के श्रंगार के समय की जाती है। इस समय उनकी मूर्ति भव्य गहने पहनायें जाते है।
भोग आरतीः यह दोपहर में की जाती है जब भोग (प्रसाद) द्वारा भगवान की सेवा की जाती है।
संध्या आरतीः शाम को सूर्यास्त में की जाती है।
सयाना आरतीः यह मंदिर बंद होने से पहले रात में की जाती है।

इन विशेष अवसरों पर दो विशेष भजन, श्री श्याम आरती और श्री श्याम विनाती का जप किया जाता है। श्री श्याम मंत्र भगवान के नामों की एक पूरा भजन या आरती है जो भक्तों द्वारा कि जाती मंदिर के वातारण को मंत्रमुग्ध करता है।



Krishna Festival(s)










फोटो गैलरी


वीडियो गैलरी




2021 के आगामी त्यौहार और व्रत











दिव्य समाचार










आप यह भी देख सकते हैं


Humble request: Write your valuable suggestions in the comment box below to make the website better and share this informative treasure with your friends. If there is any error / correction, you can also contact me through e-mail by clicking here. Thank you.

EN हिं