महासू देवता मंदिर

महासू देवता मंदिर

महत्वपूर्ण जानकारी

  • Location: Hanol, Uttarakhand 248199
  • Timings: Open 04:00 am and Close 09:00 pm.
  • Best time to visit : October to March.
  • Nearest Railway Station : Dehradun Railway Station at a distance of nearly 171 kilometres from Mahasu Devta Temple.
  • Nearest Airport : Jolly Grant Airport at a distance of nearly 202 kilometres from Mahasu Devta Temple.
  • Did you Know: In medieval time the great Mughal emperor Akbar made frequent visits to the temple.

महासू देवता मंदिर एक हिन्दूओं का प्राचीन मंदिर है जो कि भगवान महासू देवता को समर्पित है। यह मंदिर भारत के उत्तराखंड राज्य के हनोल गांव में स्थित है। महासू देवता मंदिर, देहरादून से लगभग 190 किमी और मसूरी से 156 किमी दूर चक्रता के पास हनोल गांव में टोंस नदी (तामास) के पूर्वी तट पर है। महासू इस क्षेत्र के मुख्य देवता है और हनोल और आसपास के गांवों के लोगों द्वारा महासू देवता मंदिर में पूजा की जाती है।

हनोल का यह मंदिर, गांव उत्तराखंड के पहाड़ी हिस्सों, यमुना नदी के पश्चिम, सिरमौर जिले के ट्रांस गिरी क्षेत्र और हिमाचल प्रदेश के शिमला जिले के प्रमुख हिस्सो में तथा इन क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए एक तीर्थस्थल है।

महासू को इन क्षेत्रों के लोग न्याय के देवता के नाम से जानते है। इन क्षेत्रों में महासू देवता को न्याय के देवता और मन्दिर को न्यायालय के रूप में माना जाता है। आज भी महासू देवता के उपासक मन्दिर में न्याय की गुहार और अपनी समस्याओं का समाधान मांगते आसानी से देखे जा सकते हैं।

’महासू’ देवता एक नहीं चार देवताओं का सामूहिक नाम है और स्थानीय भाषा में महासू शब्द ‘महाशिव’ का अपभ्रंश है। चारों महासू भाईयों के नाम बासिक महासू, पबासिक महासू, बूठिया महासू (बौठा महासू) और चालदा महासू है। इस क्षेत्र के लोग इन चारों भाईयों को भगवान शिव के ही रूप माने जाते हैं।

ऐसा माना जाता है कि महासू देवता का यह मंदिर 9वीं शताब्दी में बनाया गया था। यह मंदिर प्रारंभ में हुना वास्तुशिल्प शैली में बनाया गया था, लेकिन समय के दौरान, इस मंदिर को मिश्रित वास्तुशिल्प शैली में बनाया गया है। इस मंदिर को उत्तराखंड के देहरादून सर्कल में प्राचीन मंदिर की भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण सूची में शामिल किया गया है।

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, किरमिक नाम का एक राक्षस इस गांव में रहने के लोगों को पीडित करता था। गांव के लोग इस राक्षस से परेशान हो गए थे। भगवान शिव के एक भक्त ने भगवान शिव की तपस्या की और भगवान शिव ने प्रसन्न होकर देवलारी देवी को चार पुत्र दिये। राक्षस और इन चारों के बीच एक भंयकर युद्ध हुआ जो कि कुछ दिनों तक चलता रहा और अंत में, चार भाई राक्षसों को मारने में कामयाब रहे। कुछ सालों बाद एक ग्रामीण अपने खेत में खेती करते हुए चार शिवलिंग मिले जिन्हें देवलारी देवी-बोथा, पावसिक, वासिक और चल्दा के चार बहादुर पुत्रों के नाम पर रखा गया था। तब से, ग्रामीणों ने यहां भगवान शिव की पूजा महासू देवता के नाम पर करना शुरू कर दिया।



Shiv Festival(s)










फोटो गैलरी





2021 के आगामी त्यौहार और व्रत











दिव्य समाचार










आप यह भी देख सकते हैं


Humble request: Write your valuable suggestions in the comment box below to make the website better and share this informative treasure with your friends. If there is any error / correction, you can also contact me through e-mail by clicking here. Thank you.

EN हिं