द्वारकाधीश मंदिर गुजरात

Short information

  • Location: Dwarka, Gujarat 361335
  • Temple Open and Close Timing: 07.00 am to 12.30 pm  and 05.00 pm to 09.30 pm.
  • Aarti Timings :
  • Morning:  07.00 am to 08.00 am Mangla Darshan
  • 08.00 am to 09.00 am Abhishek Pooja (Snan vidhi) : Darshan closed
  • 09.00 am to 09.30 am Shringar Darshan
  • 09.30 am to 09.45 am Snanbhog : Darshan closed
  • 09.45 am to 10.15 am Shringar Darshan
  • 10.15 am to 10.30 am Shringarbhog : Darshan closed
  • 10.30 am to 10.45 am Shringar Arti
  • 11.05 am to 11.20 am Gwal Bhog Darshan closed
  • 11.20 am to 12.00 am Darshan
  • 12.00 am to 12.20 am Rajbhog : Darshan closed
  • 12.20 am to 12.30 am Darshan
  • 12.30 Anosar : Darshan closed
  • Evening :
  • 05.00 pm Uthappan First Darshan
  • 05.30 pm to 05.45 pm Uthappan Bhog Darshan closed
  • 05.45 pm to 07.15 pm Darshan
  • 07.15 pm to 07.30 pm Sandhya Bhog Darshan closed
  • 07.30 pm to 07.45 pm Sandhya Arti
  • 08.00 pm to 08.10 pm Shayanbhog Darshan closed
  • 08.10 pm to 08.30 pm Darshan
  • 08.30 pm to 08.35 pm Shayan Arti
  • 08.35 pm to 09.00 pm Darshan
  • 09.00 to 09.20 pm Bantabhog and Shayan : Darshan closed
  • 09.20 to 09.30 pm Darshan
  • Nearest Railway Station: Dwarka Railway Station at a distance of nearly 1 kilometres from Dwarkadhish Temple.
  • Nearest Airport: Jamnagar airport at a distance of nearly 136 kilometres from Dwarkadhish Temple.
  • Best Time ot Visit: October-February is the best time to visit and (Early morning, before 8:00 am).
  • Primary deity: Krishna
  • Important festival: Krishna Janmashtami
  • Other names: Jagat Mandir or Trilok Sunder Temple
  • Did you Know: Temple was constructed by Lord Krishna's grandson Vajrabh and temple is 2,200-2000 years old

द्वारकाधीश मंदिर हिन्दूओं का प्रसिद्ध और महत्वपूर्ण स्थान है। यह मंदिर भगवान श्री कृष्ण को समर्पित है। द्वारकाधीश मंदिर, द्वारका, गुजरात, भारत में स्थित है। यह मंदिर गोमती नदी के तट पर तथा इस स्थान पर गोमती नदी अरब सागर से मिलती है। द्वारकाधीश मंदिर को जगत मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। यहां पर द्वारकाधीश की पूजा की जाती है जिसका अर्थ ‘द्वारका का राजा’ है। यह स्थान द्वापर में भगवान श्री कृष्ण की राजधानी थी और आज कलयुग में भक्तों के लिए महा तप तीर्थ है।

द्वारकाधीश मंदिर 5 मंजिला इमारत का तथा 72 स्तंभों द्वारा समर्थित, को जगत मंदिर या त्रिलोक सुन्दर (तीनों लोको में सबसे सुन्दर) मंदिर के रूप में जाना जाता है, पुरातात्विक द्वारा बताया गया हैं कि यह मंदिर 2,200-2000 वर्ष पुराना है। 15वीं-16वीं सदी में मंदिर का विस्तार हुआ था। ऐसा माना जाता है कि इस मंदिर का निर्माण भगवान श्री कृष्ण के पोते वज्रभ द्वारा किया गया था।

8वीं शताब्दी के हिन्दू धर्मशास्त्रज्ञ और दार्शनिक आदि शंकराचार्य के बाद, मंदिर भारत में हिंदुओं द्वारा पवित्र माना गया ‘चार धाम’ तीर्थ का हिस्सा बन गया। अन्य तीनों में रामेश्वरम, बद्रीनाथ और पुरी शामिल हैं। द्वारकाधीश उपमहाद्वीप पर भगवान विष्णु का 108वीं दिव्य मंदिर है, दिव्य प्रधान की महिमा पवित्र ग्रंथों भी है।

ऐसा माना जाता है कि ज भगवान श्रीकृष्ण ने कंश का वध किया था तो कंश के ससुर जरासंध ने मथुरा पर 17 बार आक्रमण किया और हर बार भगवान श्रीकृष्ण से हार जाता था। हर युद्ध में मथुरा का काफी नुकसान होता था तो भगवान श्रीकृष्ण ने मथुरा का छोडकर सौराष्ट्र आये और द्वारका का अपना निवास स्थान बनाया था।

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, द्वारका कृष्ण द्वारा भूमि के एक टुकड़े पर बनाया गया था जिसे समुद्र से पुनः प्राप्त किया गया था। ऋषि दुर्वासा ने एक बार कृष्णा और उनकी पत्नी रूक्मणी जी का दर्शन किया। ऋषि ने कामना की कि भगवान श्रीकृष्ण और रूक्मणी उनके साथ उनके निवासा स्थान पर चले। यह भगवान श्रीकृष्ण और रूक्मणी सहमत हो गये और उनके निवास स्थान के लिए ऋषि के साथ चलना शुरू कर दिया। कुछ दूरी के बाद, रुक्मणी थक गई और उन्होंने श्रीकृष्ण से पानी का अनुरोध किया। श्रीकृष्ण ने एक पौराणिक छेद खोला और पानी को गंगा नदी से उस जगह लाये। ऋषि दुर्वासा उग्र थे और रुक्मिणी को उसी जगह रहने के लिए शाप दिया था। द्वारकाधीश मंदिर उस जगह पर माना जाता है जहां रूक्मणी खड़ी थी।

गुजरात में द्वारका के शहर में एक इतिहास है जो पुरानी शताब्दियां हैं, और महाभारत महाकाव्य में द्वारका साम्राज्य के रूप में उल्लेख किया गया है। गोमती नदी के तट पर स्थित, शहर पौराणिक कथा में भगवान कृष्ण की राजधानी के रूप में वर्णित है।

मंदिर के ऊपर स्थित ध्वज सूर्य और चंद्रमा को दर्शाता है, जो कि यह संकेत मिलता है कि पृथ्वी पर सूर्य और चंद्रमा मौजूद होने तक कृष्ण होगा। झंडा दिन में 5 बार से बदल जाता है, लेकिन प्रतीक एक ही रहता है। मंदिर में एक पांच मंजिला ढांचा है जिसमें सत्तर-दो स्तंभ हैं। मंदिर की शिखर 78.3 मीटर ऊंची है। इस प्राचीन मंदिर का निर्माण चूना पत्थर द्वारा किया गया है जो अभी भी अपनी मूल स्थिति में है। मंदिर इस क्षेत्र पर शासन करने वाले राजवंशों द्वारा की गई जटिल मूर्तिकला का वर्णन करता है। इन कार्यों से संरचना का विस्तार नहीं किया गया था मंदिर में दो प्रवेश द्वार हैं मुख्य प्रवेश द्वार (उत्तर द्वार) को ‘मोक्षद्वारा’ (द्वार से मुक्ति) कहा जाता है। यह प्रवेश द्वार मुख्य बाजार में ले जाता है। दक्षिण द्वार को ‘स्वर्ग द्वार’ (गेट टू हेवन) कहा जाता है। इस द्वार के बाहर 56 कदम जो गोमती नदी की ओर जाता है।

Read in English...

मानचित्र में द्वारकाधीश मंदिर गुजरात

वेब के आसपास से

Coming Festival/Event

    We use cookies in this webiste to support its technical features, analyze its performance and enhance your user experience. To find out more please read our privacy policy.