अमरनाथ मंदिर

Amarnath Temple

Short information

  • Location: Baltal Amarnath Trek, Forest Block, Anantnag, Pahalgam, Jammu and Kashmir 192230
  • Yatra Start Date : 02 July 2019
  • Yatra End Date : 15 August 2019
  • Nearest Railway Station : Jammu Tawi, The temple is located at a distance of about 178 km from the railway station.
  • Nearest Air Port : Jammu Airport, which is around 178 km away from the temple.
  • Yatra Start Places : Pehelgaam and Sonmarg Baltaal
  • Distance from Jammu : Pahalgaam is 315 kilometers from Jammu and Baltaal is aprox 400 kilometers from Jammu.
  • Yatra Months : July–August.
  • Walking distance: Pahalgam is 32 kilometers from Amarnath Temple and Baltaal is 14 kilometers from Amarnath Temple.

अमरनाथ मंदिर भारत के जम्मू-कश्मीर राज्य में स्थित है। यह मंदिर हिंदू धर्म का एक महत्वपूर्ण अंग है, और हिंदू धर्म में सबसे पवित्र मंदिरों में से एक माना जाता है। यह मंदिर एक गुफा के रूप स्थित है। इस गुफा की लंबाई (भीतर की ओर गहराई) 19 मीटर और चैड़ाई 16 मीटर है। गुफा 11 मीटर ऊँची है। इस गुफा का अमरनाथ गुफा भी कहा जाता है। अमरनाथ मंदिर भगवान शिव को पूर्णरूप से समर्पित है। इस मंदिर तक पहुचने की यात्रा को अमरनाथ की यात्रा कहा जाता है जो पूरे साल मे लगभग 45 दिन (जुलाई व अगस्त) ही होती है। इस स्थान का नाम अमरनाथ व अमरेश्वारा इसलिए पड़ा क्योंकि भगवान शिव ने माता पार्वती को अमरत्व का रहस्य बताया था।

पवित्र गुफा की विशेषता
इस स्थान की प्रमुख विशेषता पवित्र गुफा में बर्फ से प्राकृतिक शिवलिंग का निर्मित होना है। प्राकृतिक बर्फ से निर्मित होने के कारण इसे स्वयंभू बर्फ का शिवलिंग भी कहते हैं यह शिवलिंग लगभग 10 फुट ऊचा बनता है। आषाढ़ पूर्णिमा से शुरू होकर रक्षाबंधन तक पूरे सावन महीने में होने वाले पवित्र हिमलिंग दर्शन के लिए लाखो लोग यहां आते है। चन्द्रमा के घटने-बढ़ने के साथ-साथ इस बर्फ का आकार भी घटता-बढ़ता रहता है। श्रावण पूर्णिमा को यह अपने पूरे आकार में आ जाता है और अमावस्या तक धीरे-धीरे छोटा होता जाता है। मूल अमरनाथ शिवलिंग से कई फुट दूर गणेश, भैरव और पार्वती के वैसे ही अलग अलग हिमखंड हैं।

ऐतिहासिक महत्व
इस गुफा का अपना ऐतिहासिक महत्व भी है, वो इसलिए क्योकि इसी गुफा में माता पार्वती को भगवान शिव ने अमरकथा सुनाई थी, जिसे सुनकर सद्योजात शुक-शिशु शुकदेव ऋषि के रूप में अमर हो गये थे। गुफा में आज भी श्रद्धालुओं को कबूतरों का एक जोड़ा दिखाई दे जाता है, जिन्हें श्रद्धालु अमर पक्षी बताते हैं। वे भी अमरकथा सुनकर अमर हुए थे।

ऐसा माना जाता है कि भगवान शंकर जब पार्वती को अमर कथा सुनाने ले जा रहे थे, तो उन्होंने छोटे-छोटे अनंत नागों को अनंतनाग में छोड़ा, माथे के चंदन को चंदनबाड़ी में उतारा, अन्य पिस्सुओं को पिस्सू टॉप पर और गले के शेषनाग को शेषनाग नामक स्थल पर छोड़ा था। ये तमाम स्थल अब भी अमरनाथ यात्रा में आते हैं।

अमरनाथ गुफा का सबसे पहले पता सोलहवीं शताब्दी के पूर्वाध में एक मुसलमान गडरिए को चला था। आज भी चैथाई चढ़ावा उस मुसलमान गडरिए के वंशजों को मिलता है।

Read in English...

फोटो गैलरी

आप को इन्हें भी पढ़ चाहिए हैं :

मानचित्र में अमरनाथ मंदिर

आपको इन्हे देखना चाहिए

आने वाला त्योहार / कार्यक्रम

आज की तिथि (Aaj Ki Tithi)

ताज़ा लेख

इन्हे भी आप देख सकते हैं

X