श्रीनाथजी मंदिर, उदयपुर

श्रीनाथजी मंदिर, उदयपुर

महत्वपूर्ण जानकारी

  • पता: श्री नाथ मार्ग, पुराना शहर, नाडा खड़ा, उदयपुर, राजस्थान 313001
  • दैनिक दर्शन का समय: मंगला: सुबह 04:30 से 05:30 बजे तक
  • श्रृंगार: सुबह 06:40 से 07:30 बजे तक
  • ग्वाल : सुबह 08:40 से 09:05 बजे तक
  • राजभोग: सुबह 11:00 बजे से दोपहर 12:15 बजे तक
  • उत्थापन: दोपहर 03:30 बजे से दोपहर 03:50 बजे तक
  • आरती : 04:45 बजे से शाम 06:30 बजे तक
  • निकटतम रेलवे स्टेशन: श्रीनाथजी मंदिर से लगभग 10.6 किलोमीटर की दूरी पर नाथद्वारा रेलवे स्टेशन।
  • निकटतम हवाई अड्डा: श्रीनाथजी मंदिर से लगभग 22.6 किलोमीटर की दूरी पर महाराणा प्रताप हवाई अड्डा उदयपुर।

श्रीनाथ जी का मंदिर हिन्दूओं के लिए विशेष महत्व रखता है यह मंदिर पूर्णतयः श्रीकृष्ण को समर्पित है। श्रीनाथ जी मंदिर वैष्णवों समाज के लिए महत्वपूर्ण तीर्थस्थल माना जाता है। श्रीनाथ जी के मंदिर को ‘श्रीनाथजी की हवेली’ और ‘नाथद्वारा’ भी कहा जाता है। ऐसा कहा जा सकता है कि श्रीकृष्ण की पूजा करने वालों के लिए विशेष तीर्थस्थल है। श्रीनाथ जी मंदिर भारत के राज्य राजस्थान के उदयपुर शहर, पुराना शहर नाडा खड़ा में स्थित है।

श्रीनाथ जी मंदिर के प्रमुख देखता भगवान श्रीकृष्ण का एक रूप हैं, जो सात साल के बच्चे के की अवस्था रूप में है। श्रीनाथजी वैष्णव सम्प्रदाय के केंद्रीय पीठासीन देव हैं जिन्हें पुष्टिमार्ग या वल्लभाचार्य द्वारा स्थापित वल्लभ सम्प्रदाय के रूप में जाना जाता है। वल्लभाचार्य के पुत्र विठ्ठलनाथजी, ने नाथद्वारा में श्रीनाथजी की पूजा को संस्थागत रूप दिया। श्रीनाथजी की लोकप्रियता के कारण, नाथद्वारा शहर को श्श्रीनाथजीश् के नाम से जाना जाता है। लोग इसे श्रीनाथजी बाबा की नगरी भी कहते हैं। प्रारंभ में, बाल कृष्ण रूप को देवदमन के रूप में संदर्भित किया गया था। यह देवदमन का अर्थ है कृष्ण द्वारा गोवर्धन पहाड़ी के उठाने में इंद्र को सबक सिखानें से हैं। वल्लभाचार्य ने उनका नाम गोपाल रखा और उनकी पूजा का स्थान ‘गोपालपुर’ रखा। बाद में, विट्ठलनाथजी ने उनका नाम श्रीनाथजी रखा। श्रीनाथजी की सेवा दिन के 8 भागों में की जाती है।

ऐसा माना जाता है कि श्रीनाथजी ने श्री वल्लभाचार्य को हिंदू विक्रम संवत 1549 में दर्शन दिए थे। वल्लभाचार्य को निर्देश दिया कि वे गोवर्धन पर्वत पर पूजा प्रारंभ करें। वल्लभाचार्य ने गोपाल देवता की पूजा के लिए व्यवस्था की, और इस परंपरा को उनके पुत्र विठ्ठलनाथजी ने आगे बढ़ाया। बाद में गोपाल देवता को श्रीनाथ कहा गया था।

श्रीनाथ जी मंदिर का निर्माण

पौराणिक कथा के अनुसार श्रीनाथ की स्वयं प्रकट हुए थे। श्रीनाथजी की प्रतिमा की पूजा सबसे पहले मथुरा के पास गोवर्धन पहाड़ी पर की गई थी। ऐसा माना जाता है कि श्रीनाथजी की प्रतिमा स्वयं गोवर्धन पर्वत से प्रकट हुए थी। प्रारंभ में श्री नाथजी की प्रतिमा को मथुरा से यमुना नदी के किनारे 1672 ईस्वी में स्थानांतरित कर दिया गया था और इसे आगरा में लगभग छह महीने तक रखा गया था। मुगल शासक औरंगजेब द्वारा मंदिरों को तोड़ा जा रहा था, औरंगजेब श्रीनाथ जी की प्रतिमा को भी तोड़ना चाहता था। औरंगजेब से प्रतिमा को बचाने के लिए बैलगाड़ी पर दक्षिण की ओर एक सुरक्षित स्थान पर स्थानांतरित किया जा रहता था। जब बैलगाड़ी, सिहाद या सिंहद गाँव में घटनास्थल पर पहुँचे, तो बैलगाड़ी के पहिए मिट्टी में धँस गया और बैलगाड़ी को आगे नहीं ले जाया जा सकता था। पुजारियों ने महसूस किया कि यह विशेष स्थान भगवान का चुना हुआ स्थान था।

तदनुसार, मेवाड़ के तत्कालीन महाराणा राज सिंह के शासन और संरक्षण में एक मंदिर बनाया गया था। श्रीनाथजी मंदिर को ‘श्रीनाथजी की हवेली’ के रूप में भी जाना जाता है। मंदिर का निर्माण गोस्वामी दामोदर दास बैरागी ने 1672 में करवाया था।

श्रीनाथ जी मंदिर के त्यौहार और अनुष्ठान

श्रीनाथ मंदिर में, जन्माष्टमी और होली और दिवाली जैसे त्योहारों के अवसर पर बड़ी संख्या में भक्त मंदिर में आते हैं। श्रीनाथ को एक जीवित छवि की तरह माना जाता है, और दैनिक सामान्य कार्यों में भाग लिया जाता है, जैसे स्नान, ड्रेसिंग, भोग नामक भोजन और नियमित अंतराल में विश्राम का समय। चूंकि श्रीनाथ जी को शिशु कृष्ण माना जाता है, तदनुसार, विशेष देखभाल की जाती है। मंदिर के सभी के पुजारी, जो मथुरा के पास गोवर्धन पहाड़ी पर श्रीनाथ की छवि के संस्थापक वल्लभाचार्य के वंशज हैं।
श्रीनाथ जी मंदिर का मुख्य आकर्षण आरती और श्रृंगार हैं, यानी श्रीनाथजी के श्रीनाथ की पोशाक और सौंदर्यीकरण, जिसे प्रतिदिन सात बार बदला जाता है, इसे एक जीवित बच्चे के रूप में माना जाता है, इसे दिन या रात के समय के लिए उपयुक्त पोशाक के साथ सजाया जाता है। जटिल रूप से बुने गए शैनील और रेशमी कपड़े में असली जरी और कढ़ाई का काम होता है, साथ ही बड़ी मात्रा में असली कीमती आभूषण भी होते हैं। औपचारिक प्रार्थना दीया, अगरबत्ती, फूल, फल और अन्य प्रसाद के साथ, स्थानीय वाद्ययंत्रों और श्रीनाथजी के भक्ति गीतों के साथ, समय और अवसर की मांग के अनुसार की जाती है। परदा हटाए जाने के बाद श्रीनाथ के दर्शन को झाखी कहा जाता है।




Krishna Festival(s)













संबंधित लेख




2022 के आगामी त्यौहार और व्रत











दिव्य समाचार











Humble request: Write your valuable suggestions in the comment box below to make the website better and share this informative treasure with your friends. If there is any error / correction, you can also contact me through e-mail by clicking here. Thank you.

EN हिं