नैमिषारण्य धाम

नैमिषारण्य अपने आप में अद्वितीय है क्योंकि पाताल भुवनेश्वर के अलावा यह एकमात्र ऐसा स्थान है जहां 33 करोड़ हिंदू देवी-देवताओं का निवास माना जाता है। नैमिषारण्य को हिंदुओं के सभी तीर्थ स्थलों में सबसे पहला और पवित्र स्थान माना जाता है। यहां 12 वर्षों तक तपस्या करने से सीधे ब्रह्मलोक की प्राप्ति होती है। नैमिषारण्य की यात्रा करना सभी महत्वपूर्ण तीर्थ स्थलों की यात्रा के समान माना जाता है। यह एकमात्र स्थान है जिसका उल्लेख सभी महत्वपूर्ण हिंदू धर्मग्रंथों में मिलता है।

नैमिषारण्य का इतिहास

देवताओं ने धर्म की स्थापना के लिए इस स्थान का चयन किया, लेकिन वृत्तासुर नामक एक राक्षस बाधा उत्पन्न कर रहा था। उन्होंने ऋषि दधीचि से अपनी हड्डियों का दान करने का अनुरोध किया ताकि राक्षस का नाश करने के लिए एक हथियार बनाया जा सके। भागवत पुराण में इस स्थान का उल्लेख "नैमिषे-अनिमिष-क्षेत्र" के रूप में किया गया है, जो भगवान विष्णु का निवास स्थान है। भगवान विष्णु ने यहां दुर्जय और उसके राक्षसों के समूह का एक क्षण में नाश किया। उन्होंने गयासुर का भी नाश किया और उसके शरीर के तीन टुकड़े कर दिए, जिसमें एक हिस्सा गया (बिहार), दूसरा नैमिषारण्य और तीसरा बद्रीनाथ में गिरा।

नैमिषारण्य के नाम की उत्पत्ति ब्रह्मा के मनोमय चक्र से मानी जाती है, जो यहां गिरा था। "निमिषा" का अर्थ है "एक क्षण का अंश" और "नेमी" का अर्थ है "चक्र का बाहरी भाग"। यह स्थान 16 किमी के परिक्रमा पथ से घिरा हुआ है, जो भारत के सभी पवित्र स्थानों को समाहित करता है। ऐसा माना जाता है कि यहां सतरूपा और स्वयंभुव मनु ने 23,000 वर्षों तक तपस्या की थी। भगवान राम ने रावण पर विजय प्राप्त करने के बाद यहां अश्वमेध यज्ञ किया था। वेद व्यास ने यहां 6 शास्त्र, 18 पुराण और 4 वेद संकलित किए थे। पांडव और भगवान बलराम ने भी इस स्थान की यात्रा की थी। तुलसीदास ने यहीं रामचरितमानस की रचना की थी।

कथाएँ

प्राचीन भारतीय मंदिरों की तरह नैमिषारण्य से भी कई कथाएँ जुड़ी हुई हैं:

एक कथा के अनुसार, ऋषि नारद तीनों लोकों में सबसे पवित्र तीर्थ की खोज में थे। उन्होंने कई पवित्र स्थानों की यात्रा की और अंत में नैमिषारण्य के जलाशय पर पहुंचे। यह स्थान इसलिए पवित्र माना जाता है क्योंकि यहां के देवता की पूजा सभी देवताओं ने की थी।

एक अन्य कथा के अनुसार, असुर वृत्र द्वारा देवताओं के राजा इंद्र को देवलोक से निकाल दिया गया था। वृत्र अमर था, लेकिन भगवान विष्णु की सलाह पर, इंद्र ने ऋषि दधीचि से उनकी हड्डियों का दान मांगा। दधीचि ने अपनी मृत्यु से पहले सभी पवित्र नदियों की यात्रा करने की इच्छा व्यक्त की। इंद्र ने सभी पवित्र नदियों का पानी नैमिषारण्य में एकत्र कर दिया।

एक अन्य कथा के अनुसार, जब ऋषियों ने तपस्या करने का निर्णय लिया, तो भगवान ब्रह्मा ने दरभा घास से एक अंगूठी बनाई और उसे गिरने दिया। अंगूठी जहां गिरी, वह स्थान नैमिषारण्य कहलाया और वहीं ऋषियों ने तपस्या की और भगवान विष्णु ने उनकी प्रार्थनाओं और अर्पणों को स्वीकार किया।

वाराह पुराण के अनुसार यहां भगवान द्वारा निमिष मात्र में दानवों का संहार होने से यह 'नैमिषारण्य' कहलाया। वायु, कूर्म आदि पुराणों के अनुसार भगवान के मनोमय चक्र की नेमि (हाल) यहीं विशीर्ण हुई (गिरी) थी, अतएव यह नैमिषारण्य कहलाया।

प्रययुस्तस्य चक्रस्य यत्र नेमिर्व्यशीर्यत।
तद् वनं तेन विख्यातं नैमिषं मुनिपूजितम्॥

धार्मिक महत्व

नैमिषारण्य प्राचीन काल से धार्मिक महत्व का स्थान रहा है। यह तीर्थ स्थल ऋग्वेद में उल्लिखित है और पुराणों में इसे प्रमुख तीर्थ स्थलों में से एक माना गया है। वाल्मीकि की रामायण और कालिदास की रघुवंशम में भी इसका उल्लेख है। यह एक आध्यात्मिक केंद्र और ध्यान स्थल है, जहां लोग अपने पापों को धोने के लिए पवित्र स्नान करते हैं।

स्थान

यह मंदिर सीतापुर और खैराबाद के बीच स्थित है। यह सीतापुर से 32 किमी और संडीला रेलवे स्टेशन से 42 किमी की दूरी पर है। लखनऊ से यह मंदिर 45 मील की दूरी पर स्थित है। नैमिषारण्य गोमती नदी के तट पर स्थित है, जो भारत की सबसे पवित्र नदियों में से एक है। मंदिर परिसर में स्थित पवित्र कुआं "चक्र कुंड" को भगवान विष्णु की अंगूठी माना जाता है और लोग इसके पानी में पवित्र स्नान करते हैं।




Shiv Festival(s)















2024 के आगामी त्यौहार और व्रत











दिव्य समाचार











Humble request: Write your valuable suggestions in the comment box below to make the website better and share this informative treasure with your friends. If there is any error / correction, you can also contact me through e-mail by clicking here. Thank you.

EN हिं