बागनाथ मंदिर

बागनाथ मंदिर

महत्वपूर्ण जानकारी

  • Location: SH 37, Bageshwar, Uttarakhand 263642.
  • Open and Closing Time: Summer - 05:00 am to 07:00 pm. Winter - 06:00 am to 06:00 pm.
  • Best time to visit: During summer March-May (25 to 11 degree Celsius), During winter snows heavily November-January (15 to 2 degree Celsius).
  • Nearest Airport : Pantnagar Airport at a distance of nearly 185 kilometres from Bajinath Temple.
  • Nearest Railway Station: Kathgodam railway station at a distance of nearly 152 kilometres from Bajinath Temple.
  • By Road: Bageshwar is 37.7 km from Kasauni. State-owned buses connect Bageshwar to Almora, Ranikhet, Nainital, Kasauni and Pithoragarh.
  • Did you know: Rishi Markandey had worshiped Lord Shiva here. Lord Shiva blessed the sage Markandeya by coming here in form of a Tiger.

बागनाथ मंदिर, भारत के उत्तराखंड के बागेश्वर जिले में सरयु और गोमती नदियों के संगम पर बागेश्वर शहर में स्थित है।  बागनाथ मंदिर भगवान शिव को पूणतः समर्पित है। बागनाथ मंदिर सभी आकारों की घंटी है जिसमें प्रभावशाली नक्काशी की गई है। यह बागेश्वर जिले का सबसे प्रसिद्ध मंदिर है। इस मंदिर में शिवरात्रि के अवसर पर भक्तों की बहुत बढ़ी संख्या भगवान शिव के दर्शन के लिए आते है। बागेश्वर शहर को यह नाम इस मंदिर से मिला है।

हिंदू किंवदंती के अनुसार, ऋषि मार्कंडेय ने यहां भगवान शिव की पूजा की थी। भगवान शिव ने बाघ के रूप में यहां आकर ऋषि मार्कंडेया को आशीर्वाद दिया था।
हालांकि कुछ स्रोत बताते हैं कि 7वीं शताब्दी के बाद से बागनाथ मंदिर का अस्तित्व, नागा शैली में वर्तमान मंदिर 1450ई. में चांद शासक लक्ष्मी चंद ने बनाई थी। मंदिर में विभिन्न मूर्तियां जो 7वीं ईस्वी से 16वीं शताब्दी ईस्वी के बीच में स्थिापित की गई थी। बागनाथ मंदिर के महत्व को स्कंद पुराण में उल्लेख किया गया है। यहां पूजा करने के लिए पूरे वर्ष हिंदू तीर्थयात्रियों इस स्थान पर आते है।

उत्तरायणी मेला हर साल जनवरी महीने में मकर संक्रांति के अवसर पर आयोजित किया जाता है। मेले के धार्मिक अनुष्ठान में संगम पर मेले के पहले दिन स्नान करने से पहले स्नान होता है। स्नान के बाद, मंदिर के अंदर भगवान शिव को पानी अर्पित करना आवश्यक माना जाता है। इस धार्मिक अनुष्ठान को तीन दिनों तक किया जाता है जिसे ‘त्रिमाघी’ के नाम से जाना जाता है।



Shiv Festival(s)













2021 के आगामी त्यौहार और व्रत











दिव्य समाचार










आप यह भी देख सकते हैं


Humble request: Write your valuable suggestions in the comment box below to make the website better and share this informative treasure with your friends. If there is any error / correction, you can also contact me through e-mail by clicking here. Thank you.

EN हिं