देवउठनी एकादशी

Devauthani Ekadashi

संक्षिप्त जानकारी

  • दिनांक: रविवार, 14 और 15 नवंबर 2021
  • देवउठनी एकादशी मुहूर्त
  • एकादशी तीथि आरंभ - प्रातः 05:48 बजे से 14 नवंबर, 2021 तक
  • एकादशी तिथि समाप्त हो रही है - 06:39 AM 15 नवंबर, 2021 को
  • दिनांक: बुधवार, 25 नवंबर 2020
  • दिनांक: शुक्रवार, 08 नवंबर 2019

देवउठनी एकादशी हिंदू धर्म के लिए एक महत्वपूर्ण दिन माना जाता है। इस दिन ज्यादातर महिलाएं उपवास रखती हैं। कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी और देवउठनी ग्यारस कहते हैं। देवउठनी एकादशी को हरिप्रबोधिनी एकादशी और देवोत्थान एकादशी के नाम से भी जाना जाता है।

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, भगवान विष्णु चार महीने के लिए निद्रा अवस्था में चले जाते हैं। भगवान विष्णु कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी पर अपनी निद्रा अवस्था से बाहर आते हैं। इसलिए इस दिन को देवउठनी एकादशी के रूप में जाना जाता है। देवउठनी एकादशी के दिन चातुर्मास समाप्त होता है। इस दिन सभी देवता योग निद्रा के साथ जागते हैं।

देवउठनी एकादशी के बाद से ही हिंदू संतान धर्म में सभी शुभ और शुभ कार्य शुरू हो जाते हैं। जैसे कि विवाह, मुंडन और उपनयन संस्कार आदि। कार्तिक माह में मनाई जाने वाली देव उठी एकादशी के दिन तुलसी विवाह करने का भी विधान है। इस दिन दान, पुण्य आदि का भी विशेष फल प्राप्त होता है।

You can Read in English...

आप को इन्हें भी पढ़ना चाहिए हैं :


आगामी त्यौहार

सकट चौथ व्रत माघ कालाष्टमी व्रत मौनी अमावस्या क्या है और कब है? इस दिन गंगा में स्नान करना शुभ माना जाता है वसन्त पंचमी, सरस्वती पूजा, वसंत पंचमी कथा महाशिवरात्रि 2021

आपको इन्हे देखना चाहिए

आने वाला त्योहार / कार्यक्रम

आज की तिथि (Aaj Ki Tithi)

ताज़ा लेख

इन्हे भी आप देख सकते हैं

X